world

हांगकांग में अब भी जारी है हिंसक प्रदर्शन

हांगकांग में हिंसक प्रदर्शनों और अशांति का दौर खत्म होता नहीं दिख रहा है। हांगकांग में हिंसा और प्रदर्शन का सिलसिला अब भी कायम है। 22 सितंबर को भी उग्र प्रदर्शन जारी रहा। पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारियों की रोकथाम के लिए लगाई गई बेरिकेडिंग,निगरानी के लिए लगे कैमरों को जब प्रदर्शनकारियों ने तोड़ना शुरू किया तो उनका पुलिस से टकराव हो गया। इसके चलते शा टिन इलाके में शॉपिंग मॉल के अंदर और नजदीक के सब वे (लोकल ट्रेन) स्टेशन पर भी तोड़फोड़ हुई। मॉल में सैकड़ों की संख्या में एकत्रित युवा और बुजुर्ग प्रदर्शनकारियों ने हांगकांग की आज़ादी और लोकतंत्र के समर्थन में नारे लगाए।

साथ ही प्रदर्शनकारियों ने चीन समर्थक लोगों के साथ कारोबार बंद करने का भी आह्वान किया। प्रदर्शनकारियों द्वारा वहां पर लगा हुआ चीनी झंडा भी उतारकर फाड़ दिया गया। इसके बाद नजदीक के सब वे स्टेशन पहुंचकर वहां लगे कैमरों और बेरिकेडिंग को तोड़ दिया गया। प्रदर्शनकारियों द्वारा टिकट बूथ पर भी तोड़फोड़ की गई । प्रदर्शनकारियों का कहना था कि टिकट देने से पहले उनसे पहचान पत्र मांगे जाते हैं-इसके बाद टिकट दिए जाते हैं। यह काम आंदोलन को दबाने के लिए चीन समर्थित प्रशासन कर रहा है।

प्रदर्शनकारियों ने मॉल और सब वे स्टेशन के बाहर खड़ी कारों और पेड़ों को भी नुकसान पहुंचाया। इस दौरान वहां लगे संकेत चिह्नों को भी तोड़ दिया गया। इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ना शुरू किया। टकराव के दौरान पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े तो जवाब में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पेट्रोल बम फेंके। इस बीच हांगकांग स्थित चीनी सेना के अड्डे की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि अर्ध स्वायत्त क्षेत्र की नेता कैरी लैम आंदोलन के चलते चार महीने से बने गतिरोध को दूर कर लेंगी। उन्हें चीन का पूरा समर्थन प्राप्त है।

इससे पहले हांगकांग में 21,सितंबर शनिवार को भी चीन सीमा के नजदीक लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों और दंगा रोधी पुलिस के बीच झड़पें हुईं। माना जा रहा है कि हांगकांग में तीन महीने से जारी विरोध प्रदर्शन की वजह से इस आर्थिक केंद्र को भारी क्षति हुई है। इन झड़पों के दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों के समूह पर आंसू गैस के गोले छोड़े और रबड़ की गोलियां चलाई। पुलिस द्वारा कई प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, पिछले हफ्ते के मुकाबले इस बार झड़प बहुत देर तक नहीं चली।

21 सितंबर का शनिवार लगातार हिंसक प्रदर्शनों का 16वां सप्ताहांत था, जब पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसक झड़प हुई। अब यह परिपाटी बन गई है कि हांगकांग के पश्चिमोत्तर में चीन सीमा के नजदीक स्थित तुयेन मुन शहर के दिन की शुरुआत शांतिपूर्ण प्रदर्शन से होती है। प्रदर्शनकारियों में शामिल 22 वर्षीय काल्विन तान ने कहा, ‘अधिकतर प्रदर्शनकारी लंबी लड़ाई के लिए तैयार हैं। हर छोटा प्रदर्शन मायने रखता है, भले ही लगे कि इससे कुछ नहीं होगा। यह मैराथन दौड़ में छोटा कदम है।’ प्रदर्शनकारी उस विधेयक को वापस लेने की मांग कर रहे हैं जिसमें हांगकांग निवासियों को चीन प्रत्यर्पित करने का प्रावधान है। इसी कारण से ही हांगकांग अब भी अशांत है और हिंसक भी।

You may also like