[gtranslate]
world

खुद को फंसता देख बुरी तरह डरे ट्रंप, सत्ता हस्तांतरण को तैयार

अमेरिका को जाते-जाते डोनाल्ड ट्रंप ने एक ऐसा घाव दे दिया है, जो जल्द ही भरने वाला नहीं है और न ही भूलने वाला। ट्रंप के उकसावे के बाद जो अमेरिकी संसद में हुआ वो विरोध-प्रदर्शन से अधिक एक हमला माना जा रहा है जिसे खुद अमेरिका के मूल नागरिकों ने अंजाम दिया। ट्रंप तो अमेरिका को महान शक्तिशाली बनाने की बातें करते थे लेकिन उनके इस प्रयास को उनके ही समर्थकों ने बदनाम कर दिया। जिसके बाद अमेरिका भी उन्हें ऐसे ही छोड़ देने के मूड में नहीं है।

अमेरिका में हुई हिंसा और लगातार ट्रंप के भड़काऊ संदेशो पर भी आखिरकार ट्विटर-फेसबुक और इंस्टाग्राम ने एक्शन लेते हुए उनके अकाउंट्स को अनिश्चित काल के लिए बंद कर दिया है। वहीं यूट्यूब से भी उनके कई भाषणों को रिमूव कर दिया गया है। साथ ही सोशल नेटवर्किंग साइट्स द्वारा ट्रंप को चेतावनी भी जारी की गई है कि अगर पुनः ऐसा कुछ होता है तो उनके अकाउंट्स को स्थाई तौर पर ब्लॉक कर दिया जाएगा। जिसके बाद अपने खिलाफ बनते इस माहौल को देखकर डोनाल्ड ट्रम्प घबरा गए हैं और केवल शांति की बात करते नजर आ रहे हैं। वह अपने समर्थकों से शांत रहने की अपील भी कर रहे हैं।

डोनाल्ड ट्रंप ने अब 24 घंटे बाद एक वीडियो संदेश जारी किया है। इस सन्देश में उन्होंने अमेरिकी संसद में हुए हिंसक हमले की कड़ी निंदा की। साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि उनका सारा ध्यान केवल और केवल सत्ता को ट्रांसफर करने पर है। यानी अब डोनाल्ड ट्रंप मान रहे हैं कि 20 जनवरी को जो बाइडेन ही अमेरिका के राष्ट्रपति बनेंगे और वो हार मान चुके हैं।

जाते-जाते खुद को माफी देने के मूड में ट्रंप, कई और को भी दे चुके माफी

अपने वीडियो संदेश में ट्रंप ने कहा कि जिन लोगों द्वारा हिंसा की गई है वो असली अमेरिका का प्रदर्शन नहीं कर रहे थे, हिंसा होने से उन्हें गहरा आघात पंहुचा है। कल, 7 जनवरी के विवाद के बाद उन्होंने तुरंत ही नेशनल गार्ड्स की तैनाती कर दी थी। उन्होंने कहा हमेशा से अमेरिका कानून व्यवस्था वाला देश रहा है और आगे भी रहेगा।

बीते दिन ट्रंप समर्थकों ने वॉशिंगटन के कैपिटल हिल इलाके में हिंसा की। सीनेट में घुसकर कब्जा करने की कोशिश की। संसद को बंदी बनाने के प्रयास किए गए। इस दौरान 4 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। घटना के बाद ट्रंप सबके निशाने पर आ गए हैं और कार्यकाल पूरा होने से पूर्व ही उन्हें हटाने के कयास लगाए जाने लगे हैं।

डोनाल्ड ट्रंप की ओर से अपने वीडियो संदेश में कहा गया कि राष्ट्रपति के पद पर काम करना उनके लिए गर्व की बात रही है। बीते दिन के विवाद के बाद से कई डेमोक्रेट्स, रिपब्लिकन सीनेटर्स द्वारा डोनाल्ड ट्रंप पर महाभियोग चलाने की बात की गई और उपराष्ट्रपति माइक पेंस को इसपर उचित कार्रवाई करने के लिए कहा गया था। डोनाल्ड ट्रंप पर जब महाभियोग का खतरा बढ़ने लगा तो ट्रंप की ने ये बयान दिया गया है ताकि डैमेज कण्ट्रोल किया जा सके।

ट्रंप ने कई बार लगातार चुनाव नतीजों को गलत बताया है और हार मानने से भी इंकार किया है। उन्होंने बीते दिन भी कहा कि वह चुनाव के नतीजों से खुश नहीं है। चुनाव प्रक्रिया में धांधली की गई है। लेकिन वह 20 जनवरी को शांतिपूर्ण रूप से सत्ता का हस्तांतरण जरूर करेंगे।

You may also like

MERA DDDD DDD DD