[gtranslate]
world

चीन ने लिया बदला, ब्रिटिश नेताओं पर लगाए ‘प्रतिबंध’

चीन जैसे-जैसे मानवाधिकार के मुद्दों पर विश्वभर में घिरता जा रहा है। वैसे -वैसे उसकी बौखलाहट भी अब साफ नजर आने लगी है। अपनी निंदा चीन बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है। इसलिए अब वह उन देशों से बदला लेने में जुट गया है जो उसके लिए मुसीबत बनते जा रहे हैं। चीन ने हाल ही में कई ब्रिटिश राजनेताओं और संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिया है। हाल ही में ब्रिटेन, यूरोपीय संघ और अन्य देशों ने मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोप में शिनजियांग में कई चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिया था।

चीन ने ब्रिटिश राजनेताओं और संगठनों पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए हैं और ब्रिटेन के नौ नागरिकों और चार संस्थानों पर प्रतिबंध लगा दिया है। चीनी विदेश मंत्रालय ने प्रतिबंधों की पुष्टि की और कहा कि ब्रिटेन ने हमारे नागरिकों के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई की थी। इसमें हाउस ऑफ लॉर्ड्स के चेयरमैन बैरोनेस कैनेडी और लॉर्ड एल्टन के अलावा ब्रिटेन की पूर्व कंजरवेटिव पार्टी के नेता इयान डंकन स्मिथ और विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष टॉम तुगेंदत, पाकिस्तानी मूल के नुसरत गनी और टिम लॉटन शामिल हैं।

ऑस्ट्रेलिया: संसद से अश्लील वीडियो लीक, सवालों के घेरे में सरकार 

प्रतिबंधों की सूची में मप्र और एसेक्स कोर्ट चैंबर्स के अनुसंधान समूह सहित चीन ने चार संगठनों को भी शामिल किया है। इन संगठनों ने शिनजियांग में चीनी कार्रवाई को नरसंहार बताया था। चीन में इन राजनयिकों और संगठनों की संपत्ति को जब्त करने के साथ कई कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले, ब्रिटिश विदेश मंत्री डॉमिनिक रॉब ने उइगर मुसलमानों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की।

You may also like

MERA DDDD DDD DD