[gtranslate]
Country

ताउते ने मचाया कहर, 637 लोगों का रेस्क्यू, 80 अभी भी लापता

 

चक्रवात तूफान ताउते तो गुजर चुका है लेकिन अपने पीछे तबाही के निशान छोड़ गया है। मुंबई समेत महाराष्ट्र के तटीय जिलों और गुजरात में ताउते ने भारी तबाही मचाई। गुजरात में तूफान कमजोर होकर आगे बढ़ गया। इस बीच, मुंबई के समुद्रों के बीच फंसे चार जहाजों में सवार 713 लोगों में से 637 लोगों का रेस्क्यू किया जा चुका है, जिनमें से एक ओएनजीसी नौका पी305 डूब गया, जिस पर 80 से अधिक लोग सवार थे, वह अभी भी लापता हैं।

P305 बार्ज पर कुल 273 लोग सवार थे, जिनमें से 180 को बचा लिया गया है, 80 अभी भी लापता हैं। जीएएल कंस्ट्रक्टर पर 137 लोग थे, सभी सुरक्षित निकाल लिए गए। एसएस-3 बार्ज में 202 लोग सवार थे, उन सभी का भी रेस्क्यू सफल रहा। सागर भूषण पर 101 लोग सवार थे, उन सभी को भी सकुशल बचा लिया गया।

यह भी पढ़े: मोदी का लाइव प्रसारण: केजरीवाल पर सवाल उठाने वाले PM खुद सवालों के घेरे में

मुंबई से 175 किलोमीटर दूर हीरा फील्ड्स में बार्ज P305 पर बचाव सोमवार शाम 5 बजे से जारी है। इसमें सबसे ज्यादा 273 लोगों की सवारियां थीं। आईएनएस कोलकाता और आईएनएस कोच्चि जहाज के चालक दल और अन्य लोगों को निकालने में लगे हुए हैं। रक्षा प्रवक्ता कमांडर मेहुल कार्णिक ने कहा, P305 से 180 लोगों को बचाया गया है। जहाज सोमवार की रात सात बजे डूब गया। हम बाकी लोगों की तलाश कर रहे हैं।

नौसेना और तटरक्षक बल के 10 जहाजों ने सोमवार दोपहर को शुरू हुए बचाव अभियान में हिस्सा लिया। आईएनएस शिकारा के कैप्टन डीएस पुरोहित ने कहा कि मंगलवार को मौसम साफ होने के साथ ही दो विमान और चार हेलीकॉप्टर भी तलाशी अभियान में शामिल हो गए। बचाव के लिए एक आपातकालीन पोत भी तैनात किया गया था।

पश्चिमी नौसेना कमान के वाइस एडमिरल एमएस पवार ने कहा, ‘पिछले 4 दशकों में हमने जितने भी राहत और बचाव अभियान देखे हैं, उनमें से यह सबसे चुनौतीपूर्ण है। बजरा P305 मुंबई से 60 किमी की दूरी पर डूब गया। लोगों को बचाने में 4 आईएनएस शामिल थे। मंगलवार को चक्रवाती तूफान के चलते आवो घाट के पास समुद्र में फंसी तीन नावों में सवार 29 लोगों को बचा लिया गया।

You may also like

MERA DDDD DDD DD