[gtranslate]
Country

दुनिया में पहली बार मानव शरीर में ट्रांसप्लांट हुआ सुअर का ‘दिल’

दुनिया साइंस के क्षेत्र में इतनी आगे बढ़ चुकी है कि अब कुछ भी संभव किया जा सकता है। ऐसा ही एक अकल्पनीय चमत्कार अमेरिकी डॉक्टर्स ने कर दिखाया है।
गौरतलब है कि भगवान के बाद अगर किसी को ईश्वर की उपाधि दी जा सकती है तो वो है डॉक्टर्स । इन्हीं डॉक्टर्स ने महाचमत्कार कर पूरी दुनिया के लिए शल्य चिकित्सा में नए मार्ग खोल दिए हैं।

दरअसल, अमेरिका के सर्जनों द्वारा एक 57 वर्षीय शख्स में जेनेटिकली मॉडिफाइड सूअर का दिल ट्रांसप्लांट किया गया है, जो सफल भी रहा है। इसे अकल्पनीय इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि मेडिकल इतिहास में ऐसा चमत्कार पहली बार है। इससे एक उम्मीद जगी है कि इसके बाद ऑर्गन डोनेशन करने वालों की कमी को भरा जा सकेगा। क्योंकि कभी-कभी ऑर्गन डोनर न मिलने पर मरीज की मौत हो जाती है।

मेडिकल जगत के लिए यह बेहद अच्छी खबर है। यह हृदय प्रत्यारोपण के क्षेत्र में क्रांति साबित हो सकता है। इसने गंभीर हृदय रोगों से पीड़ित लाखों लोगों के लिए हृदय प्रत्यारोपण का एक नया मार्ग खोल दिया है। नए साल की पूर्व संध्या पर अमेरिकी दवा नियामक एफडीए ने सर्जरी को मंजूरी दी थी। अमेरिकी चिकित्सकों द्वारा नए साल के पहले महीने में ये बड़ी कामयाबी है।

यह भी पढ़ें : दुनिया भर में 488 मीडिया पेशेवर जेलों में कैद

विश्वविद्यालय के एक बयान के अनुसार, पीड़ित डेविड बेनेट की हालत गंभीर थी। इसलिए उसकी जान बचाने के लिए आनुवंशिक रूप से मॉडिफाइड सुअर के दिल का प्रत्यारोपण करने का निर्णय लिया गया। डेविड की हालत में अब सुधार हो रहा देखा जा रहा है।

मैरीलैंड में रहने वाले डेविड ने सर्जरी से एक दिन पहले कहा था कि उनके पास दो ही विकल्प हैं। इस ट्रांसप्लांट के जरिए एक तरफ मौत और दूसरी तरफ नए जीवन की उम्मीद थी। अंधेरे में जीवन का पीछा करना मेरा आखिरी उपाय था। बेनेट पिछले कई महीनों से हार्ट-लंग बाइपास मशीन का उपयोग कर बिस्तर पर पड़े हैं। उसे उम्मीद है कि अब वह फिर से उठ खड़े होंगे।

You may also like

MERA DDDD DDD DD