[gtranslate]
Country

हरियाणा -महाराष्ट्र में भाजपा आज उम्मीदवारों की सूची जारी कर सकती है 

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव में चुनावी रण पूरी तरह सज चुका है। आज  से टिकट वितरण  प्रक्रिया शुरू हो  रही है।राज्य  विधानसभा चुनाव  को लेकर सियासत चरम पर पहुंच चुकी है। सत्तारूढ़ भाजपा व कांग्रेस के सामने आने वाले दिनों में सबसे बड़ी चुनौती बगावत को रोकने की होगी।सत्ताधारी भाजपा आज 29 सितंबर रविवार को आगामी विधानसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर सकती है। राज्य में 21 अक्तूबर को मतदान होगा। सूत्रों के मुताबिक, राज्य के भाजपा नेता उम्मीदवारों की सूची को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चर्चा करने के बाद निर्णायक रूप देंगे।

वहीं हरियाणा में  भी विधानसभा चुनाव में चुनावी रण पूरी तरह सज चुका है।राज्य में  आज  से टिकट वितरण  प्रक्रिया शुरू हो  रही है। सत्तारूढ़ भाजपा व कांग्रेस के सामने  सबसे बड़ी चुनौती बगावत को रोकने की होगी। दोनों दलों में ही 90 सीटों पर टिकट के इच्छुक नेताओं की भरमार है। कांग्रेस में टिकट को लेकर 1200 से अधिक आवेदन आए हैं तो भाजपा में आंकड़ा कई गुना है।

भाजपा ने टिकट वितरण को लेकर आज 29 सितंबर  रविवार को संसदीय दल की बैठक बुलाई है।  हरियाणा के प्रतिनिधि के तौर पर अधिकृत प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला 90 सीटों की टिकटों का पैनल प्रस्तुत करेंगे, जिस पर पीएम नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा व संसदीय बोर्ड के सदस्य अंतिम निर्णय पर मुहर लगाएंगे।

वहीँ कांग्रेस की राष्ट्रीय स्क्रीनिंग कमेटी की पहली बैठक कल 30 सितंबर को होगी,जिसकी अध्यक्षता कमेटी चेयरमैन मधुसूदन मिस्त्री करेंगे।
बैठक में विधानसभा उम्मीदवारों की निर्विवाद सूची पर जहां अंतिम मुहर लगाई जाएगी, वहीं अन्य सीटों के पैनल को अंतिम रूप देने पर चर्चा होगी। इसके बाद कांग्रेस की पहली सूची आएगी।
भाजपा और कांग्रेस में टिकट के दावेदार बहुत ज्यादा हैं। इसलिए टिकट घोषित होने पर बगावत की आशंका है। चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे नेता जरूर जुगत भिड़ाएंगे। क्योंकि, भाजपा व कांग्रेस दोनों ही सभी आवेदकों को संतुष्ट नहीं कर सकते हैं। दोनों ही पार्टियों में अनेक नेता ऐसे हैं, जिन्होंने चुनाव लड़ने का मन बनाया हुआ है।भाजपा व कांग्रेस में बड़े नेता अपने चहेतों व परिवार के लोगों के लिए टिकट चाह रहे हैं। इनमें भाजपा की तरफ से सांसद भी शामिल हैं तो कांग्रेस के कई दिग्गज परिजनों को टिकट के लिए अड़े हुए हैं। अब दोनों दलों को टिकट वितरण के बाद जहां परिजनों व चहेतों के लिए टिकट मांग रहे नेताओं को मनाना होगा, वही असंतुष्टों से भी निपटना पड़ेगा ।
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल  शाम अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र के सफल दौरे से भारत लौट आए हैं। सूत्रों के मुताबिक, सूची पर पीएम मोदी से चर्चा करने के लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और राज्य भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल आज सुबह  दिल्ली रवाना होंगे। चुनाव आयोग ने नामांकन करने की आखिरी तारीख चार अक्तूबर रखी है।

भाजपा के शिवसेना के साथ सीट बंटवारा होने के दावे के बीच उद्धव ठाकरे ने कल  शनिवार को दो टूक कहा कि मिलकर लड़ने पर जीतने पर उनकी पार्टी मुख्यमंत्री पद का दावा नहीं छोड़ेगी। उनके इस बयान के बाद भाजपा शिवसेना के बीच गठबंधन को लेकर नए सिरे से अटकलें लगने लगी हैं। मुख्यमंत्री पद पर शिवसेना का दावा ठोकते हुए उन्होंने कहा कि आखिरी वक्त में बाला साहेब को उन्होंने वचन दिया था कि एक न एक दिन मुख्यमंत्री पद पर शिवसैनिक को जरूर बैठाऊंगा। इस वचन को पूरा करने की कसम खाई है। अगर शिवसैनिक उनके साथ हैं तो वह अपनी मर्जी के फैसले ले सकते हैं।

अगर हम भाजपा के साथ मिलकर लड़ते हैं तो उनके साथ अपनी ताकत लगानी है और हमें उम्मीद है कि भाजपा के लोग भी हमारे साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलेंगे। उन्होंने कहा कि हम शिवसैनिक हैं और हमारे अंदर कपट नहीं है।”

                                                                                                             उद्धव ठाकरे

विधानसभा चुनाव में भाजपा की नजरें उत्तरी महाराष्ट्र की 47 सीटों पर है, जो कभी कांग्रेस का गढ़ हुआ करती थीं। उत्तरी महाराष्ट्र के अहमदनगर, धुले, जलगांव, नंदूरबार और नासिक जिले में कांग्रेस कमजोर हुई है तो भाजपा अपनी पैठ बनाने में कामयाब रही है। चुनाव नजदीक आने के साथ ही भाजपा इन जिलों में अपने प्रसार में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। लिहाजा कांग्रेस-एनसीपी के कई नेताओं ने भाजपा का दामन थाम लिया है, जिससे दोनों विपक्षी दलों के लिए वहां दिक्कतें बढ़ गई हैं।

आदिवासी बहुल इलाके नंदूरबार और धुले में पारंपरिक रूप से कांग्रेस और एनसीपी मजबूत है। कांग्रेस के इस गढ़ में पहली बार दरार तब आई जब भाजपा ने एनसीपी के दिग्गज नेता विजय कुमार गावित की बेटी हिना गावित को पार्टी में शामिल किया। अब चर्चा है कि कांग्रेस के दिग्गज नेता अमरीश पटेल भी भाजपा में शामिल हो सकते हैं। इसके अलावा कई और नेताओं के पाला बदलने की अटकलें हैं।

वहीं, नासिक में कांग्रेस के पास दो विधायक थे, जिनमें से निर्मला गावित शिवसेना में शामिल हो चुकी हैं। वहीं अहमदनगर में अकोला से एनसीपी विधायक वैभव पिचड़ और शिरडी से कांग्रेस विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल दोनों भाजपा का दामन थाम चुके हैं। उत्तरी महाराष्ट्र में भाजपा की संभावनाओं पर बात करते हुए भाजपा नेता एकनाथ खड़से ने कहा कि आने वाले चुनाव में भाजपा इस क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन करेगी क्योंकि उसने अपना यहां काफी प्रसार किया है।

उत्तरी महाराष्ट्र के इन पांच जिलों में 288 विधानसभा सीटों में 47 सीटें आती हैं। नंदूरबार में जहां चार विधानसभा सीटें है, वहीं धुले में पांच, जलगांव में 11, नासिक में 15 और अहमदनगर में 12 सीटें हैं।

 महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुक चुका है। इसी क्रम में 14 निर्दलीय उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किया। नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 27 सितंबर  से शुरू हो चुकी है और इसकी अंतिम तारीख चार अक्तूबर है।  उम्मीदवारों के दस्तावेजों की जांच पांच अक्तूबर तक पूरी कर ली जाएगी। राज्य में नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख सात अक्तूबर है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD