[gtranslate]
world

WHO ने कोरोना को किया महामारी घोषित, ट्रंप ने यूरोप पर लगाए यात्रा प्रतिबंध

दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया गया है। बुधवार को विश्व स्वास्थय संगठन के प्रमुख टैड्रॉस ऐडनॉम गैबरेयेसस ने जिनेवा में यह जानकारी दी कि COVID-19 को पेनडेमिक यानी महामारी कहा जाता है।

इसके तेजी से फैलने और इसका प्रभाव न रोक पाने को लेकर भी उन्होंने गहरी चिंता जताई। उन्होंने आगे कहा कि महज दो हफ्तों में ही चीन के बाहर इस वायरस के संक्रमण में 13 गुना इजाफा हुआ है।

साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि महामारी के रूप में या दुनिया के दूसरे देशो  में तेजी से फैल रही बीमारी के रूप में दर्शाने का मतलब यह नहीं कि डब्लूएचओ अपनी सलाह बदल रहा है। इस पर चिंता जाहिर करते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख ने कहा कि देशों को इस वायरस से लड़ने के लिए तत्‍काल और आक्रामक कदम उठाए जाने की जरूरत है।

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख ने कहा कि कई देशों ने कोरोना वायरस का नियंत्रित कर यह दिखा दिया है कि इस वायरस को नियंत्रित किया जा सकता है। वायरस के कहर को झेल रहे कई देशों के लिए यह एक चुनौती नहीं है कि क्या वे ऐसा कर सकते हैं। चुनौती तो यह है कि क्या वे करेंगे?

गौरतलब है कि बीते दिनों भी विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के प्रमुख टैड्रॉस ऐडनॉम गैबरेयेसस ने कहा था कि वायरस के फैलने और इसके प्रभाव का जोखिम वैश्विक स्‍तर पर बेहद ज्‍यादा हो गया है। इस वायरस का खतरा जितना बड़ा है। उसे देखते हुए विश्‍व समुदाय उतना तैयार नहीं है जितना की चीन।

WHO के मुताबिक, चीन ने जितनी सावधानियां बरतीं विश्‍व समुदाय उस तरह से तैयार नहीं है। साल 2009 के बाद नए कोरोना वायरस को महामारी घोषित किया गया है। उस समय इन्फ्लुएंजा वायरस से लाखो लोग संक्रमित हो गए थे।

एपिडेमिक और पैनडेमिक में अंतर

जॉर्जटाउन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर लॉरेंस ओ गॉस्टिन के मुताबिक, किसी खास देश या क्षेत्र विशेष में फैली बीमारी को एपिडेमिक कहा जाता है। जबकि दुनिया के अधिकतर हिस्सों में फैलने के बाद इसे पैनडेमिक करार दिया जाता है।

इसी बीच भारत ने कोरोना वायरस के मद्देनजर विदेश से आने वाले लोगों का वीजा 15 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड कर दिया है।  इस प्रतिबंध से राजनायिकों, अधिकारियों, सयुंक्त राष्ट्र संघ और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के कर्मचारियों को छूट मिलेगी। यह प्रतिबंध 13 मार्च, 2020 से ही लागू हो जायेगा। फ्रांस, जर्मनी और स्पेन के नागरिकों के नियमित और ई-वीजा पर रोक लगा दी है।

इससे पहले चीन, साउथ कोरिया, जापान, इटली पर भी ऐसी ही रोक लगाई गई थी। सरकार की ओर से सलाह दी गई है कि भारतीय नागरिकों को सलाह दी गई है कि गैरजरूरी विदेशी यात्राएं करने से बचें। साथ ही अगर चीन, इटली, ईरान, कोरिया, फ्रांस, स्पेन और जर्मनी में जो भी भारतीय या विदेशी यात्री 15 फरवरी तक रहे हों, उन्हें भारत आने पर कम से कम 14 दिन के लिए अलग मेडिकल निगरानी में रखा जाएगा।

ट्रंप ने यूरोप पर लगाए यात्रा प्रतिबंध

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी वायरस से बचाव के लिए यूरोप पर नए यात्रा प्रतिबंधों की घोषणा की है। ट्रंप ने एक टीवी चैनल पर अपने संबोधन में कहा कि यूरोप की सभी यात्रा अगले 30 दिनों के लिए निलंबित कर दी जाएंगी। उन्होंने कहा कि मजबूत लेकिन आवश्यक’ प्रतिबंध ब्रिटेन पर लागू नहीं होंगे, जहां अभी तक इस वायरस के 460 मामलों की पुष्टि हो चुकी है।

इस बीच ट्रंप ने कहा, “इस वायरस से जुड़े नए मामलों को हमारे देश में प्रवेश करने से रोकने के लिए हम अगले 30 दिनों के लिए यूरोप से अमेरिका की सभी यात्रा को निलंबित कर देंगे। नए नियम शुक्रवार आधी रात से लागू हो जाएंगे।”

ट्रंप ने एक ट्वीट के जरिए लोगों का आश्वासन देते हुए लिखा कि मीडिया को इसे एकता और ताकत के समय के रूप में देखना चाहिए। हमारे पास एक आम दुश्मन है, दुनिया का दुश्मन, कोरोना वायरस। हमें इसे जल्दी और सुरक्षित रूप से हरा देना चाहिए। अमेरिकी नागरिकों के जीवन और सुरक्षा से ज्यादा महत्वपूर्ण मेरे लिए कुछ भी नहीं है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD