[gtranslate]
world

हम चाहते कि रूस पर निर्भर नहीं रहे भारत : अमेरिका

रूस हमेशा रक्षा क्षेत्र में भारत का भागीदार रहा है। लेकिन अब ये बात अमेरिका को रास नहीं आ रही है। रक्षा क्षेत्र में भारत और रूस के संबंधों पर अमेरिका की ओर से एक बार फिर बयान दिया गया है। अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन ने कहा, ‘भारत अपनी रक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए रूस पर निर्भर है और यह हतोत्साहित करने वाला है।’

पेंटागन के प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत ही नहीं, हम अन्य देशों के साथ भी बहुत स्पष्ट हैं। हम नहीं चाहते कि कोई भी देश अपनी रक्षा जरूरतों के लिए रूस पर निर्भर हो। उन्होंने कहा कि हम भारत के साथ रक्षा साझेदारी के लिए प्रतिबद्ध हैं और इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के रास्ते तलाश रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह जरूरी है और हमारे प्रयास जारी रहेंगे।

इससे पहले, अमेरिकी विदेश विभाग के काउंसलर डेरेक चॉलेट ने कहा था कि जो बिडेन प्रशासन भारत के रक्षा क्षेत्र में काम करने के लिए उत्सुक है क्योंकि भारत अपनी रक्षा क्षमताओं और आपूर्तिकर्ताओं में विविधता लाता है।

अक्टूबर 2018 में, भारत ने S-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली के लिए रूस के साथ पांच बिलियन डॉलर के समझौते पर हस्ताक्षर किए। तब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत पर प्रतिबंध लगाने की चेतावनी भी दी थी। इसके बावजूद भारत ने रूस के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे, जबकि अमेरिका ने रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के लिए तुर्की पर प्रतिबंध लगाए हैं।

यह भी पढ़ें : बढ़ती महंगाई से थर्राई दुनिया

You may also like

MERA DDDD DDD DD