[gtranslate]
world

‘नीदरलैंड्स’ में लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस कर्फ्यू पर ‘हिंसा’ जारी

नीदरलैंड्स में लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस कर्फ्यू पर हिंसा, बवाल, आगजनी, विरोध और प्रदर्शन जारी है। हालाँकि नीदरलैंड्स की डच सरकार ने उपद्रवियों के आगे झुकने से इंकार कर दिया है।

डच सरकार ने नीदरलैंड्स में द्वितीय विश्व युद्ध के बाद पहली बार कर्फ्यू लगाया है। दरअसल कोरोना महामारी को देखते हुए यहां की डच सरकार ने 23 जनवरी से रात के 9 बजे से सुबह 4:30 बजे तक सख्त कर्फ्यू लागू कर रखा है। लेकिन पिछले वर्ष से ही अक्टूबर माह से लगातार लॉक डाउन झेल रही यहां की जनता को यह कर्फ्यू गले के नीचे नहीं उतर रहा है।

इसीलिए लॉकडाउन में प्रदर्शनकारी जेलीन शहर की सड़कों पर रात के सख्त कर्फ्यू के खिलाफ निकल आये और इस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प हुई। इससे पहले सप्ताहांत में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर हमला किया था।

 

23 जनवरी को संक्रमण के 4 हजार 129 नए मामले  किए गए दर्ज

 

नेशनल इंस्टीट्यूट फोर हेल्थ की तरफ से कोरोना वायरस के ‘ब्रिटिश वेरिएन्ट’ के कारण संक्रमण की नई लहर के बारे में चेतावनी के बाद कर्फ्यू लगाया गया था क्योंकि 23 जनवरी को संक्रमण के 4 हजार 129 नए मामले दर्ज किए गए थे।वित्त मंत्री वोपके होएकट्रा ने कहा कि उपद्रव करनेवाले वैध प्रदर्शनकारी नहीं हैं।

नीदरलैंड्स के प्रधानमंत्री मार्क रूटे ने हिंसा को अस्वीकार्य बताया है क्योंकि उपद्रवियों ने 25 जनवरी को पूरे शहर में हंगामा किया। दंगे की चपेट में रॉटर्डम और एम्स्टर्डम जैसे शहर भी आ गए।  पुलिस का उपद्रवियों के साथ टकराव देखने को मिला। 

पुलिस के पानी की बौछार छोड़ने के बावजूद प्रदर्शनकारी दुकानों की खिड़कियों को तोड़ने में कामयाब रहे। पुलिस ने एम्स्टर्डम, ऐंधोवेन और दूसरे शहरों में प्रदर्शन के दौरान पानी की बौछार और आंसू गैस के गोले छोड़े। कर्फ्यू का समय रात 9 बजे से लेकर सुबह 4.30 बजे तक है और 10 फरवरी तक जारी रहने की उम्मीद है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD