[gtranslate]
world

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अपने पहले राजनयिक भाषण में कहा, ‘अमेरिका इज बैक’

अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन ने गुरूवार 4 फरवरी को अपना पहला राजनयिक संबोधन दिया, जिसमें उन्होंने वैश्विक मंच से राष्ट्रपति के तौर पर अमेरिका इज बैक का ऐलान किया। इस दौरान बाइडन ने पू्र्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की विदेश नीति के बाद नए युग का वादा भी किया। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की विदेश नीति से कई देशों ने विरोध किया था। ट्रंप अपने सनकी स्वभाव के लिए भी जाने जाते है।

दरअसल अमेरिकी राष्ट्रति जो बाइडन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने 4 फरवरी को वाशिंगटन में विदेश विभाग का दौरा किया था। इसी दौरान बाइडन ने अपना राजनयिक संबोधन दिया। अपने राजनयिक संबोधन के दौरान बाइडन ने रूस और चीन को लेकर आक्रमक रूख दिखाया। बिडेन ने चीन और रूस के लिए आक्रामक दृष्टिकोण का संकेत दिया, म्यांमार के सैन्य नेताओं से अपने तख्तापलट को रोकने का आग्रह किया, और यमन में सऊदी अरब के नेतृत्व वाले सैन्य अभियान के लिए अमेरिका के समर्थन को समाप्त करने की घोषणा की।

बाइडन ने कहा कि अमेरिकी नेतृत्व को सत्तावाद को आगे बढ़ाने के इस नए क्षण को पूरा करना चाहिए, जिसमें अमेरिका को प्रतिद्वंद्वी बनाने के लिए चीन की बढ़ती महत्वाकांक्षाओं और हमारे लोकतंत्र को नुकसान पहुंचाने और बाधित करने के रूस के दृढ़ निश्चय को शामिल किया गया है। हमें नए क्षण को पूरा करना चाहिए। महामारी से परमाणु प्रसार के लिए जलवायु संकट के लिए वैश्विक चुनौतियों का सामना करना होगा। ट्रम्प ने यूरोपीय और एशियाई नेताओं को टैरिफ, वैश्विक गठजोड़ के फ्रैक्चरिंग और अमेरिकी सैनिकों को वापस लेने की धमकियों से नाराज किया।

बाइडेन का भाषण उन शंकाओं को दूर करने और एक शक्तिशाली अंतरराष्ट्रीय रुख अपनाए जाने को लेकर अमेरिकियों को समझाने का एक पूर्ण प्रयास था। ‘हम अपनी कूटनीति को लेकर इतनी जद्दोजहद इसलिए नहीं करते हैं क्योंकि यह दुनिया के लिए सही बात है।’ उन्होंने कहा, “हम शांति, सुरक्षा और समृद्धि के लिए यह सब करते हैं। हम ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि यह हमारे अपने स्व-हित में है।

बिडेन ने कहा, अमेरिकी गठबंधन हमारी सबसे बड़ी संपत्ति हैं। कूटनीति के साथ अग्रणी होने का मतलब है कि हमारे सहयोगियों और प्रमुख भागीदारों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होना। बिडेन ने अपने शुरुआती दिनों में ट्रंप की नीतियों को वापस रोलिंग करते हुए दुनिया भर में अमेरिका के खड़े होने को हुए नुकसान की मरम्मत करने का प्रयास किया है । वह ईरान समझौते को पुनर्जीवित करने के लिए काम कर रहा है, और पेरिस समझौते और विश्व स्वास्थ्य संगठन में अमेरिका की सदस्यता नए सिरे से बहाल करने के लिए काम करेंगे। उन्होंने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को चुनौती दी। उन्होंने कहा कि मैंने अपने पूर्ववर्ती से अलग हटकर राष्ट्रपति पुतिन को स्पष्ट कर दिया है कि रूस के आक्रामकता के दिन अब लद गए जहां वह चुनावों में में हस्तक्षेप करता है, साइबर हमलों को अंजाम देता है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD