world

अमेरिका की नई दादागिरी

ईरान को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भीतर की कटुता खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। दुनिया के दो देशों ईरान और दक्षिण कोरिया से वह खार खाए बैठे हैं। इसे इस तरह भी कहा जा सकता है कि यह दोनों देश लगातार अमेरिकी दादागिरी को चुनौती देते रहे हैं। अमेरिकी सत्ता के आगे झुकना इन दोंनों देशों को गंवारा नहीं। नतीजतन अमेरिका की तरफ से मिलने वाली धमकियों का सिलसिला बदस्तूर जारी है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर से ईरान को रडार पर लिया है। उन्होंने दुनिया के देशों पर यह दबाव बनाया है कि वह व्यापार के मामले में ईरान से दूरी बना लें। टं्रप ने दो टूक कहा है- जो ईरान से व्यापार करेगा, वह हमसे व्यापार नहीं कर पाएगा। ट्रंप ने कहा कि ईरान पर आधिकारिक रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह अब तक का सबसे बड़ा प्रतिबंध है। नवंबर महीने में यह पाबंदी और बढ़ेगी। ऐसे में जो ईरान के साथ संबंध जारी रखना चाहते हैं वो अमेरिका के साथ अपने संबंधों को आगे नहीं बढ़ा पायेंगे। मैं ऐसा दुनिया में शांति के लिए कर रहा हूं। इससे कम कुछ भी नहीं।

असल में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ईरान के साथ एक परमाणु समझौता किया था। इस समझौते के अनुसार ईरान को अपना परमाणु कार्यक्रम सीमित करना था और उसके बदले अपने तेलों को निर्यात करना था। ओबामा के बाद ट्रंप आते हैं। इस समझौते पर तलवार लटक गयी। क्योंकि टं्रप ने इस समझौते की अपने चुनावी अभियान में काफी आलोचना की थी। लोगों का अंदेशा सही साबित हुआ। राष्ट्रपति बनने के बाद से ही टं्रप ने ईरान पर निरंतर दबाव बनाना शुरू किया। खास बात यह कि ओबामा के शासनकाल में हुए समझौते का इजराइल और अरब देश भी विरोध कर रहे हैं।

चुनावी अभियान में जनता से किए गए अपने वादों को निभाते हुए राष्ट्रपति टं्रप ने उस समझौते को रद्द कर दिया। समझौते के खत्म होते ही ईरान पर फिर से आर्थिक प्रतिबंध लागू हो गया। हालांकि यूरोपीय देश टं्रप के निर्णय से सहमत नहीं थे। लेकिन अपने जिद्दी स्वभाव के लिए जाने जाने वाले टं्रप ईरान को लेकर जरा भी नरम नहीं हुए।

 

अमेरिकी राष्ट्रपति टं्रप की इस चेतावनी से भारत के लिए मुसीबत खड़ी हो गई है। भारत के पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने हाल ही में कहा था कि भारत सबसे ज्यादा ईरान से पेट्रोल आयात करता है। ट्रंप की चेतावनी के बाद भारत को ईरान से संबंध तोड़ने होंगे। अमेरिका और ईरान में से किसी एक के चयन करने की स्थिति में भारत को अमेरिका का ही चुनाव करना होगा। ऐसे में भारत में पेट्रोलियम पदार्थों के आयात में कमी हो सकती है। अमेरिका चेतावनी के बाद ईरान से तेल आयात करना भारत के लिए आसान नहीं होगा। वैसे भी ईरान भारत को तेल देने के साथ-साथ कई अलग सुविधाएं भी देता है। कुल मिलाकर यह अमेरिका की दादागिरी है। जो भी उसके खिलाफ सिर उठाएगा, उसका सिर कुचलने की उसकी पुरानी नीति है। टं्रप की यह नई चेतावनी दुनिया से ईरान को अलग-थलग करने की चाल हैं, ताकि घबराकर ईरान
अमेरिकी सत्ता के आगे झुककर उसकी हर शर्त मान ले।

ईरान पहले भी आर्थिक प्रतिबंध झेल चुका है। इसके कारण उसे आर्थिक संकट से भी दो चार होना पड़ रहा है। वहां मुद्रा का आलम यह है कि एक डालर के बदले 90 हजार रियाल तक देने पड़े? ईरान की मुद्रा रियाल बुरी तरह त्रस्त हो गयी है। ईरान मुश्किल हालात से गुजर रहा है। वहां के अर्थशास्त्रियों ने भी आगाह किया कि अगर वहां के राष्ट्रपति रूहानी ने कोई ठोस और कारगर कदम नहीं उठाया तो आने वाले दिनों में हालात हाथ से निकल जाएंगे।

पहले से ही संकटग्रस्ट ईरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ताजा फैसले से और मुश्किल में फंस जाएगा। कारण कि आज की तारीख में अमेरिका को नजरअंदाज करना दुनिया के किसी भी देश के लिए मुमकिन नहीं दिखाई देता है। जाहिर है दुनिया के अधिकतर देश अमेरिका का साथ देने के लिए ईरान का साथ छोड़ देगे। नतीजतन ईरान की आर्थिक स्थिति भायावहता के दायरे में दाखिल हो जाएगी।

टं्रप का धमकीनुमा फैसला आने के बाद सरकारी चैनल के साथ बातचीत में ईरानी राष्ट्रपति रूहानी ने कहा है-‘अब आप दुश्मन हैं और दूसरे व्यक्ति पर चाकू से वार कर रहे हैं। जब आप कहते हैं कि बातचीत करना चाहते हैं। ऐसा करना है तो पहले चाकू हटाना पड़ेगा। यहां चकू का आशय आर्थिक प्रतिबंध से है। कहना न होगा कि ईरानी राष्ट्रपति टं्रप के फैसले के बाद बहुत गुस्से में है जो लाजिमी है। फिर भी ईरान की इस बात के लिए तारीफ करनी होगी कि वह अमेरिकी दादागिरी के सामने तन कर खड़ा होने की जुर्रत तो करता है।

लब्बोलुआब यह कि अगर हम पिछला इतिहास देखें तो हमेशा ही अमेरिका कुछ देशों को निशाने पर लिए रहता है। वियतनाम, अफगानिस्तान, इराक से लेकर दक्षिण कोरिया, ईरान तक एक लंबी फेहरिस्त है। यह इसलिए भी है कि इनकी सजा को देखकर दुनिया के बाकी देशों में दहशत का भाव महफूज रहे और वह अमेरिकी वर्चस्व के आगे सिर उठाने की हिमाकत न कर सकें। हाल ही में हम अफगानिस्तान और ईराक का अंजाम देख चुके हैं- देखें ईरान और दक्षिण कोरिया का क्या हश्र होता है।

9 Comments
  1. RonaldRep 2 months ago
    Reply

    0day music mp3 Rock mp3 For DJs.|
    Download Mp3 Scene Music Private FTP
    Dance/House/Techno/Trance/Electro
    Private FTP MP3/FLAC 1990-2018:
    http://0daymusic.org

    Plan A: 20€ – 200GB – 30 Days
    Plan B: 45€ – 600GB – 90 Days
    Plan C: 80€ – 1500GB – 180 Days

    Updated: 2018-07-03 FTP list txt

    Best regards,
    Mark

  2. cheap jordans 2 months ago
    Reply

    I in addition to my guys happened to be reading through the nice solutions found on your web site and the sudden developed a horrible feeling I had not expressed respect to the blog owner for those tips. These ladies appeared to be consequently thrilled to read all of them and now have definitely been making the most of those things. Thank you for getting considerably accommodating as well as for using some impressive information millions of individuals are really wanting to discover. Our sincere regret for not saying thanks to you sooner.

  3. cheap jordans 2 months ago
    Reply

    I want to show my gratitude for your generosity in support of people who must have help with in this situation. Your real commitment to getting the solution all over turned out to be astonishingly valuable and have all the time encouraged men and women just like me to reach their pursuits. This informative suggestions means a great deal to me and extremely more to my mates. Thanks a lot; from everyone of us.

  4. jordan 4 2 months ago
    Reply

    I would like to show appreciation to the writer for rescuing me from this predicament. As a result of looking out throughout the online world and finding methods which were not pleasant, I thought my entire life was well over. Living minus the answers to the difficulties you’ve resolved by means of the report is a serious case, and the kind which may have in a wrong way affected my entire career if I hadn’t noticed your web page. Your good expertise and kindness in controlling all the stuff was useful. I don’t know what I would have done if I had not come across such a stuff like this. I can at this point relish my future. Thank you so much for this impressive and sensible guide. I won’t be reluctant to endorse your blog post to any individual who requires assistance on this problem.

  5. jordan 12 2 months ago
    Reply

    I wish to express my love for your generosity for visitors who need guidance on in this niche. Your very own dedication to passing the solution throughout was especially powerful and has in most cases permitted most people just like me to attain their pursuits. Your personal warm and friendly key points signifies a great deal to me and substantially more to my peers. Regards; from everyone of us.

  6. TULIP HIFU療程屬非侵入性及非手術的緊膚修身治療,獲歐盟CE、韓國KFDA、GMP、ISO9001、ISO13485等認證,安全可靠。 Tulip的DUAL HIFU精細技術,對面部和眼部治療特別有效;另外,TULIP FB有的13mm及7mm STAMP蓋印式治HIFU治療頭設計,眼、面以外部位,同時具「造身」效果。TULIP【DUAL HIFU高能量聚焦超聲波平台】【特點】- 非手術、非侵入性緊膚治療- 適用於任何膚色肌膚- 治療更精確、更安全- 備有7mm及13mm治療頭,可收緊腹部、臀部、手臂等鬆弛肌膚 【治療目的】- 緊緻肌膚- 提升輪廓- 減淡皺紋- 重塑輪廓線條- 嫩膚亮肌- 提升下垂眼部- 重塑身體線條 (用於7mm/13mm修身治療頭)- 重點減少脂肪細胞 (用於7mm/13mm修身治療頭)

  7. 材質 1 week ago
    Reply

    倩碧全效眼霜,可解決眼部四周肌膚困擾,並持續強化眼部膠原蛋白,維持彈性及光滑明亮。配方通過眼科醫生測試

  8. NOBORI 諾婕蒂 【海洋AQUA系列】洗顏晶凍凝乳的商品介紹 UrCosme (@cosme TAIWAN) 商品資訊 NOBORI 諾婕蒂,海洋AQUA系列,洗顏晶凍凝乳

  9. 樓宇或私人 … 按揭計劃. 星展為您提供一站式置業及財務方案. 有關住宅按揭貸款產品資料 … 貸款額高達物業買入價或估值60,以較低者為準; 按揭年期長達30年 …

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like