[gtranslate]
world

अमेरिका आयोग का खुलासा ,चीन में गुलामों की जिंदगी जी रहे उइगर मुसलमान 

चालबाज  चीनी सरकार दूसरे देशों को तो मानवधिकार पर ज्ञान बांटती  फिरती है और खुद अपने घर में  उइगर मुसलमानों का नरसंहार कर रही है। चीन के शिनजियांग प्रांत में रहने वाले उइगर मुस्लिमों की जिंदगी को उसने नर्क से भी बदतर बनाकर रख दिया है।  चीनी कम्युनिस्ट पार्टी अपने देश में रहने वाले उइगर मुस्लिमों पर जो जुल्म कर रही है, वो बेहद शर्मनाक है। जिसके खिलाफ अब दुनियाभर से आवाजें उठने लगीं हैं। ब्रिटेन, अमेरिका और कनाडा ने सीधे तौर पर चीन में चलाए जा रहे डिटेंशन कैंपों  को शर्मनाक और बर्बरतापूर्ण  दिया है चीन की इस बात को लेकर दुनिया में भारी निंदा हो रही है कि शिनजियांग में जिन वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटरों को स्किल डेवलपमेंट केंद्र बताया जा रहा है वे वास्तव में प्रशिक्षण केंद्र हैं। संयुक्त राज्य के मुताबिक एक मिलियन उइगर मुस्लिम शिनजियांग में बंधक हैं।

अब संयुक्त राज्य अमेरिका कांग्रेस के द्विदलीय आयोग ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि शिनजियांग के पश्चिमी क्षेत्र में उइगर और अन्य अल्पसंख्यक मुसलमानों का  चीन “नरसंहार”कर रहा है। चीन पर अमेरिकी कांग्रेस-कार्यकारी आयोग (CECC) ने कहा कि पिछले साल नए सबूत सामने आए थे कि “मानवता के खिलाफ अपराध – और नरसंहार – घटित हो रहे हैं”। एक  उइगर डॉक्टर को 20 साल की जेल की सजा सुनाई गई।  चीन के शिनजियांग  क्षेत्र से सभी कपास, टमाटर उत्पादों पर भी अमेरिका ने  प्रतिबंध लगा दिया है। उइगर मुस्लिमों पर चीन की  इस भयानक बर्बरता की  ब्रिटेन ने  निंदा की  है।

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि शिनजियांग में कम से कम दस लाख उइगर और अन्य मुसलमानों को हिरासत में लिया गया है। इस पर नेताओं, कार्यकर्ता समूहों और अन्य लोगों ने कहा है कि चीन में  मानवता के खिलाफ अपराध हो रहे हैं। हालांकि चीन इन आरोपों से इनकार कर रहा है । CECC की रिपोर्ट में कहा गया है कि शिनजियांग में मानवाधिकारों के हनन के विरुद्ध अमेरिका को एक औपचारिक अमेरिकी  दृढ़ संकल्प” दिखाना होगा। बीते  27 दिसंबर को  अमेरिकी संसद में पारित प्रस्ताव के 90 दिनों के भीतर दिखाने की  आवश्यकता है।

अमेरिका के सचिव माइक पोम्पिओने भी वहां जायजा लिया था कि दृढ संकल्प दिखाया जाय या नहीं ,लेकिन इस बीच अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के चलते  वाशिंगटन में मौजूदा उथल-पुथल को देखते हुए, अधिकारियों ने इसकी  घोषणा की संभावना को कम कर दिया है । CECC के सह-अध्यक्ष, डेमोक्रेटिक रिप्रेजेंटेटिव जिम मैकगवर्न ने पिछले वर्ष मानव अधिकारों को कुचलने के लिए चीन की इस कार्रवाई को “चौंकाने वाला और अभूतपूर्व” कहा और कांग्रेस और आने वाले बिडेन प्रशासन से बीजिंग को जवाबदेह रखने का आग्रह किया है । और “संयुक्त राज्य अमेरिका ने कहा है कि हम चीन के लोगों के साथ खड़े हैं और चीनी सरकार के मानवाधिकारों के हनन के लिए एकजुट और समन्वित प्रतिक्रिया में दुनिया का नेतृत्व करना चाहते हैं । अमेरिकी आयोग ने कहा है कि दुनिया के दो सबसे बड़े आर्थिक पॉवरहाउस के बीच संबंधों ने हाल के वर्षों में मानव अधिकारों, कोरोवायरस वायरस महामारी, व्यापार, जासूसी और हांगकांग सहित एक व्यापक राष्ट्रीय सुरक्षा कानून सहित कई मुद्दों पर असहमति के स्तर तक गिर गया है।

मानवाधिकारों पर रिसर्च करने वाले कई संगठनों ने भी दावा किया है कि  उइगर मुस्लिमों को यातना कैंप में जबरन रखा जाता है, और नसबंदी कर उनकी जनसंख्या पर लगाम लगाने की कोशिश की जाती है। उइगर मुस्लिमों को यातना कैंप से निकलने की इजाजत नहीं होती है। जर्मन एंथ्रोपॉलोजिस्ट और विक्टिम ऑफ कन्युनिज्म मेमोरियल फाउंडेशन में सीनियर फेलो एड्रियन जेंज ने अपनी रिसर्च और यूनाइटेड नेशंस की परिभाषा के मुताबिक इसे जेनोसाइड यानि नरसंहार का मामला बताया है। ब्रिटिश अखबर ‘गार्डियन’ ने पिछले साल 4 सितंबर को अपनी रिपोर्ट में एक उइगर मुस्लिम महिला के हवाले से रिपोर्ट छापी थी, कि यातना कैंपों से उइगर मुस्लिमों को निकलने की इजाजत नहीं होती है, महिलाओं को IUD (गर्भाधारण रोकने का उपकरण) लगाने को कहा जाता है, और अगर कोई महिला IUD लगाने से इनकार कर देती है, तो फिर उसपर भारी जुर्माना लगाया जाता है, धमकी दी जाती है और उनके साथ यौन शोषण किया जाता है।

अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन ने सामानों पर लगाया प्रतिबंध

शिनजियांग प्रांत में चलाए जा रहे डिटेंशन कैंप में उइगर मुस्लिमों से चीनी सरकार कॉटन और टमाटर का उत्पादन करवाती है। यूएस कस्टम एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन (CBP) और अमेरिकी विदेश मंत्रालय की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है, शिनजियांग के यातना कैंप में 10 लाख से ज्यादा उइगर और अन्य मुस्लिमों की आबादी को अमानवीय तरीके से रखा जाता है। इनसे बर्बर तरीके से चीनी अधिकारी पेश आते हैं। डिटेंशन कैंप में इन मुस्लिम कैदियों से घंटों तक काम करवाए जाते हैं, उन्हें अपने परिवार से अलग रखा जाता है, काम के बदले पैसे नहीं दिए जाते हैं, और कैंप में रहने वाले लोगों की जिंदगी नारकीय बनाकर रख दी गई है।

उइगर मुस्लिमों से डिटेंशन कैंप में होने वाले इस जुल्म के खिलाफ दुनिया के कई देश काफी लंबे अर्से से आवाज उठाते रहे हैं, लेकिन चीन की कम्युनिस्ट सरकार इन आरोपों को नकारती रही है। पिछले एक हफ्ते में फिर से कई देशों ने चीनी सरकार से उइगरों पर टॉर्चर रोकने की अपील की गई है, साथ ही चीन के शिनजियांग से इंपोर्ट होने वाले टमाटर और कॉटन उत्पादों पर अमेरिका, इंग्लैंड और कनाडा ने पाबंदी लगा दी है।

उइगर मुस्लिम बन गये हैं चीन में आधुनिक गुलाम’

CBP के एक्टिंग कमिश्नर मार्क एक मोर्गन ने शिनजियांग में बनने वाले सामानों पर बैन लगाते हुए कहा कि ”चीनी सरकार के लिए डिटेंशन कैंप में रहने वाले उइगर मुसलमान आधुनिक गुलाम की तरह हो गये हैं, और CBP चायनीज सरकार के उइगरों पर इस जुल्म को बर्दाश्त नहीं करेगी। CBP प्रताड़ित किए गये इन आधुनिक गुलामों के खून से बनाए गये उत्पादों को अमेरिकी बाजार में बिकने की इजाजत नहीं दे सकती है”।

वहीं, ब्रिटिश फॉरेन सेक्रेटरी डोमिनिक राब ने हाउस ऑफ कामंस में शिनिजियांग में पैदा होने वाले उत्पादों पर बैन लगाते हुए कहा, कि ”हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि ब्रिटेन के बाजार में वो उत्पाद नहीं आने पाएं जिसे यातना और प्रताड़ना देकर मजदूरों से जबरन तैयार करवाए जा रहे हों। हमें उन उत्पादों को अपने बाजारों में, अपने घरों में आने से रोकना ही होगा, जिसे इंसानों को गुलाम बनाकर बनवाए जा रहे हों। ब्रिटिश कानून भी ‘गुलाम प्रथा’ का विरोध करता है”

ब्रिटेन सरकार ने दावा किया है, की चीन के शिनजियांग में इन डिटेंशन कैंप को आधुनिक औद्योगिक शिविरों का रूप दे दिया गया है, जहां जबरन गुलाम रखे जाते हैं, और उन शिविरों में बंधक बनाकर रखे गये लोगों को जिस तरह से यातनाएं दी जाती हैं, उसके सबूत चीनी सरकार दुनिया तक पहुंचने नहीं देती है। जो कुछ भी यातना कैंप में हो रहा है, आज की दुनिया में उसकी कल्पना करना भी खौफनाक है।

चीन को नहीं पड़ता है फर्क

कई देशों ने चीन द्वारा उइगरों को डिटेंशन कैंप में रखने की कड़ी निंदा करते हुए उन्हें मुक्त जीवन जीने देने का आग्रह किया है, लेकिन चीन की कम्युनिस्ट सरकार हर आरोपों को सिरे से खारिज कर देती है। जब यूनाइटेड नेशंस के ह्यूमन राइट कमिश्नर ने शिनजियांग प्रांत जाकर डिटेंशन कैंप की स्थिति जानने की इजाजत चीनी सरकार से मांगा, तो उन्हें वहां जाने की इजाजत नहीं दी गई। अलग अलग रिपोर्टों में दावा किया गया है, कि जो उइगर मुस्लिम महिलाएं गर्भवती हो जाती हैं, उन्हें गर्भ में ही भ्रूणहत्या करने को कहा जाता है, और गर्भ गिराने से इनकार करने पर उन्हें अलग अलग तरीके से प्रताड़ित किया जाता है। वहीं, एक रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है, कि उइगर मुस्लिम महिलाओं को गर्भवती होने से रोकने के लिए डिटेंशन कैंप में उन्हें इंजेक्शन तक लगाए जाते हैं।

डिटेंशन कैंप मे बंधुआ मजदूरी रोकने के इरादे से अमेरिका, इंग्लैंड और कनाडा ने शिनजियांग प्रांत से आने वाले सामानों के इंपोर्ट पर पाबंदी लगाई है, लेकिन, लगता नहीं है, कि चीन के कम्युनिस्ट शासन को ‘इंसानों के अधिकार’ को लेकर कोई लेना-देना होगा। और इस बात की भी उम्मीद बेहद कम है, कि चीनी सरकार अपना क्रूर चेहरा बदल ले।

You may also like

MERA DDDD DDD DD