world

ट्रंप ने फिर मारी पलटी ,बोले कश्मीर जटिल मुद्दा 

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने एक बार फिर कश्‍मीर को लेकर भारत और पाकिस्‍तान के बीच मध्‍यस्‍थता की पेशकश की है। इतना ही नहीं, उन्‍होंने यहां के हालात को विस्‍फोटक बताते हुए कहा कि भारत -पाक में जम्मू कश्मीर से अनुछेद 370 खत्म होने के बाद बढ़े तनातनी की स्थिति को सामान्‍य बनाने के लिए वह हरसंभव उपाय और मध्‍यस्‍थता भी करने को तैयार हैं। उनका यह बयान ऐसे समय में आया है, जबकि अमेरिका के एक शीर्ष राजनयिक ने साफ कर दिया है कि कश्‍मीर भारत का आंतरिक मामला है और ट्रंप प्रशासन का इसमें मध्‍यस्थता का कोई इरादा नहीं है। भारत पहले ही मध्‍यस्‍थता की ऐसी किसी भी पेशकश को खारिज कर चुका है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर कश्मीर मुद्दे पर ट्रंप कार्ड खेलते हुए मध्यस्थता की बात कही है। इससे एक दिन पहले उन्होंने फोन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से बात की थी। ट्रंप ने मंगलवार 20 अगस्त को  कहा कि वह प्रधानमंत्री मोदी के समक्ष सप्ताहांत में यह मुद्दा उठाएंगे। ट्रंप ने एक प्रेस कांफ्रेंस में संवाददाताओं से कहा, “कश्मीर एक बेहद जटिल जगह है। यहां हिंदू हैं और मुसलमान भी हैं। और मैं नहीं कहूंगा कि उनके बीच काफी मेलजोल है। मध्यस्थता के लिए जो भी बेहतर होगा मैं वो करूंगा।”

इससे पहले फोन पर हुई बातचीत में ट्रंप ने इमरान से कहा था कि कश्मीर पर भारत के खिलाफ बयानबाजी में एहतियात बरते। उन्होंने स्थिति को मुश्किल बताते हुए दोनों पक्षों से संयम बरतने को कहा था। ट्रंप ने 19 अगस्त की रात को प्रधानमंत्री मोदी से करीब 30 मिनट तक बात की थी। इसके बाद उन्होंने इमरान खान से बात की थी।
इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तानी नेताओं के भारत विरोधी हिंसा के लिए उग्र बयानबाजी और उकसावे का मुद्दा उठाया था। व्हाइट हाउस के मुताबिक ट्रंप ने कश्मीर मुद्दे पर खान से कहा कि जम्मू-कश्मीर पर तनाव कम करने को लेकर चर्चा करें और और भारत के खिलाफ बयानबाजी में संयम बरतें।

ट्रंप और खान के बीच यह  एक हफ्ते से भी कम समय में दूसरी बार बात हुई । इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रंप के साथ बातचीत में तीखी बयानबाजी और पाकिस्तान के नेताओं द्वारा भारत विरोधी हिंसा उकसाने को लेकर बात की थी। जब से भारत ने जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिया है, तब से पड़ोसी देश की बौखलाहट देखने को मिल रही है।

ट्रंप और मोदी की बातचीत के बाद व्हाइट हाउस ने ट्विट करते हुए लिखा, “आज राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ क्षेत्रीय विकास और अमेरिका-भारत रणनीतिक साझेदारी पर बात की। राष्ट्रपति ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने और क्षेत्र में शांति बनाए रखने के महत्व को बताया।”व्हाइट  हाउस ने आगे लिखा, दोनों नेताओं ने चर्चा की कि कैसे वे व्यापार में बढ़ोतरी के जरिए भारत-अमेरिकी आर्थिक संबंधों को मजबूत बनाएंगे और वे जल्द ही दोबारा मिलने को तत्पर हैं। दोनों वैश्विक नेताओं के बीच बातचीत बेहद गर्मजोशी के साथ हुई जिसमें द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर बात हुई। प्रधानमंत्री मोदी ने आतंकरहित वातावरण बनाने पर जोर दिया साथ ही सीमापार से आतंकवाद का मुद्दा भी मजबूती से उठाया।

उसके बाद अब जम्मू -कश्मीर से अनुछेद 370 को हटाने के से ही पकिस्तान की बैचेनी लगातार नजर आ रही है। भारत के फैसले से बौखलाए पकिस्तान ने अब इसे लेकर नई चाल चली है। इमरान सरकार ने अब यह फैसला किया है कि वो कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय अदालत मर लेकर जाएगी। यह जानकारी पाक मीडिया से सामने आई है। इससे पहले पाकिस्तान ने यह मामला यूएनएससी में भी उठाया था ,जहां उसे निराशा ही हाथ  लगी थी।

 

You may also like