world

दुनिया की सबसे पुरानी साइकिलिंग रेस है टूर डी फ्रांस

टूर डी फ्रांस दुनिया की सबसे पुरानी साइकिलिंग रेस है। फ्रांस में इस रेस का 1903 में पहली बार आगाज़ हुआ था। उसके बाद यह रेस इतनी लोकप्रिय हुयी की हर साल यह रेस फ्रांस में आयोजित होने लगी। इस रेस को मल्टीपल स्टेज साइकिल रेस कहा जाता है। पहली बार लॉ ऑटो अख़बार की बिक्री बढ़ाने के लिए इस रेस को कराने का फैसला किया गया था। यही से इस रेस की शुरुआत मानी जाती है। हर साल होने वाली इस रेस की प्राइज मनी 18 करोड़ रूपए है। रेस का आगाज़ हमेशा से जुलाई में होता आया है। परन्तु हर साल इस रेस के रूट को बदल दिया जाता है। इस रेस को यूरोप के अलग -अलग देशो में आयोजित की जाती है इसलिए यह रेस इंटरनेशनल रेस है। यह  रेस कही से भी आरंभ की जाये परन्तु इसकी समाप्ति पेरिस में ही होती है। प्रत्येक वर्ष 21 चरणों में होने वाली इस रेस का आयोजन फ्रांस के आलावा पड़ोसी देशो में भी किया जाता है। पहले इस रेस को रात में भी आयोजित किया जाता था परन्तु प्रतिभागियों द्वारा गड़बड़ी किये जाने के बाद से इसका आयोजन रात में रोक दिया गया था।

इस रेस में  यूसीआई वर्ल्ड टीमों द्वारा भाग लिया जाता है। यह यूनियन साइक्लिस्ट इंटरनेशनल वर्ल्ड दूर इवेंट है। 3480 किमी की यह रेस 21 स्टेज की होती है।  यह पुरे 23 दिन तक चलती है। यह रेस मैदानों, चट्टानों और पहाड़ों से होकर गुजरती  है। रेस के हर स्टेज का अलग -अलग विनर होता है। रेस की प्रक्रिया में  हर स्टेज के विनर के टाइम को जोड़ा जाता है और जो खिलाडी रेस पूरी करने में कम समय लेता है उस खिलाडी को चैंपियन घोषित कर दिया जाता है। प्रत्येक चरण को पार करने का समय पहले से निर्धारित होता है यदि कोई खिलाडी  इस निर्धारित समय के अन्दर चरण को पार नही कर पाता है तो वह रेस से बाहर हो जाता है। चैंपियन बनने वाले खिलाडी को येलो जेर्सी दी जाती है। इस रेस में फ्रांस सहित पूरी दुनिया से साइकिल सवार भाग लेते है। रेस में साधारणतः लगभग 20 से 22 टीमें ही भाग लेती है। हर टीम में 9 खिलाडी शामिल होते है। ब्रिटेन के क्रिस फ्रोम  2013 ,2015 ,2016 ,2016 2017  साल की टूर डी फ्रांस की रेस को जीत चुके है। क्रिस फ्रोम पहले ब्रिटिश नागरिक है जिन्होंने इस रेस को 4 बार जीतकर रिकॉर्ड बनाया है। टूर डी फ्रांस में सबसे सफल राइडर लांस आर्मस्ट्रांग को माना जाता है। जिन्होंने सात बार जीत दर्ज़ की थी।
इस बार इस रेस का 106वा सीजन है। जो 6 जुलाई से शुरू हुआ था और 28 जुलाई को पेरिस में समाप्त हो जायेगा। इस साल अब तक इसकी 18 स्टेज हो चुकी है, उत्तर -पूर्वी फ्रांस के एंब्रन से वेलोर तक हुई और डीसीयूनिक क्विक स्टेप टीम के फ्रेंच राइडर जूलियन एलाफिलिप पहले नंबर पर चल रहे है। जीतने वाले खिलाड़ी को 3. 8 करोड़ रूपए मिलते है। इस बार 13वीं स्टेज सबसे छोटी 27.2 किमी की थी। जबकि सबसे लंबी सातवीं स्टेज (230 किमी) थी। इस रेस के पहले विजेता फ्रांस के मौरिस गारिन थे। इस रेस को सबसे अधिक 36 बार फ्रांस द्वारा जीता गया है। इसके बाद बेल्ज़ियम 18 , स्पेन 12 और इटली 10  बार जीत चुका है। इस बार इस साल की रेस टूर डी फ्रांस का ख़िताब ईगन बर्नल द्वारा जीता गया है। 22 साल के बर्नल पिछले 110 वर्षो में पहले और तीसरे सबसे युवा साइकिललिस्ट चैंपियन माने जाते है। बर्नल यह ख़िताब जीतने वाले पहले कोलंबियाई  खिलाडी भी बन चुके है।  इसी के साथ डिफेंडिंग चैम्पियन ब्रिटेन के जेरांट थॉमस दूसरे नंबर और नीदरलैंड के स्टीवेन क्रूजविस्क तीसरे स्थान पर रहे। रेस के पूरे होने का इंतज़ार और चैंपियन को देखने का उत्साह यहाँ के लोगो की रेस देखने आने की उपस्थिति से लगाया जा सकता है।

You may also like