world

अफ़गान में आतंकियों का आतंक

अमेरिका द्वारा तालिबान शांति वार्ता रद्द करने के बाद से अफगानिस्तान में हमले रुकने का नाम नहीं ले रहे है। एक बार फिर कल 18 सितंबर​ ​को पूर्वी​ ​अफगानिस्तान में एक आत्मघाती हमलावर ने एक सरकारी इमारत के भीतर विस्फोट में खुद को उड़ा लिया। अफगानिस्तान में दो दिन के अंदर यह दूसरा हमला है। प्रांत के एक अधिकारी द्वारा यह​​ जानकारी सार्वजनिक की गई। इस हमले में चार आम नागरिक मारे गए हैं और एक दर्जन से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। सूत्रों के मुताबिक सुरक्षबलों द्वारा चारों हमलावरों को भी मार गिराया गया है।

प्रत्यक्ष-दर्शियों और एएफपी के एक रिपोर्टर ​के मुताबिक​ नंगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद में इलेक्ट्रॉनिक पहचान पंजीकरण केंद्र में विस्फोट के तुरंत बाद गोलीबारी की आवाज सुनी गई थी​, जहां तालिबान और इस्लामिक स्टेट समूह दोनों सक्रिय हैं। हमला नंगरहार प्रान्त में जलालाबाद के पीडी3 में इलेक्ट्रॉनिक नेशनल आइडेंटिटी कार्ड डिपार्टमेंट के पास हुआ। प्रांत के प्रवक्ता अताउल्ला खोग्यानी​ ने एक बयान जारी कर कि कर्मियों को बचाने के लिए सुरक्षा बल इलाके में तैनात हैं। अभी तक किसी भी आतंकी समूह ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। माना जा रहा है कि आतंकवादियों का मंसूबा आगामी 28 सितंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को बाधित करना है।

इससे एक दिन पहले भी अफगानिस्तान में दो अलग-अलग हमलों में लगभग ​50 लोगों की मौत हो गई और लगभग 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे ,​​​जिसमें से एक हमला मध्य परवान प्रांत में राष्ट्रपति अशरफ गनी ​की​ आयोजित रैली के पास और दूसरा हमला​ अमेरिकी दूतावास और अफगान रक्षा मंत्रालय की इमारत के ​पास हुआ था।

You may also like