[gtranslate]
Country world

‘वैक्सीन डिप्लोमेसी’ की रेस में चीन की मदद कर रहा है श्रीलंका !

संकट के इस दौर में जिस तरह से हिन्दुस्तान ने पड़ोसी समेत कई देशों को मुफ्त वैक्सीन देकर मदद की है, उससे पूरी दुनिया में भारत की जय जयकार हो रही है। दुनियाभर में भारत की हो रही वाह-वाही ने चीन को भी अपनी वैक्सीन डिप्लोमेसी में बदलाव करने को मजबूर कर दिया है। भारत की वैक्सीन डिप्लोमेसी को देखकर चीन ने पाकिस्तान के अलावे कुछ अन्य देशों को मुफ्त वैक्सीन देने का मन बनाया है।

कोरोना महामारी के बीच कोरोना के वैक्सीन के लिए अब दुनिया भर की निगाहें भारत पर हैं। भारत के कोरोना टीके को लेकर विभिन्न देश अपनी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। भारत ने अब तक दुनियाभर के कई देशों में कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराई है। साथ ही अपने पड़ोसी देशों को भी भारत ने मुफ्त में कोरोना के टीके के कई खेप भेजें हैं।

चीन ने श्रीलंका को 3 लाख कोरोना टीके मुफ्त में देने का किया वादा

लेकिन ऐसा लगता है कि भारत के इस वैक्सीन डिप्लोमेसी की वजह से चीन की डिप्लोमेसी प्रभावित हो रही है। इसीलिए चीन ने भी पाकिस्तान के साथ-साथ श्रीलंका को भी मुफ्त में कोरोना के टीके उपलब्ध कराने की घोषणा कर दी है। वैक्सीन देने का वादा करने वाले चीन ने श्रीलंका को 3 लाख कोरोना टीके मुफ्त में देने का वादा किया है।

चीन ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह पाकिस्तान को पांच लाख और श्रीलंका को तीन लाख कोरोना टीके मुफ्त में देगा। इसी के साथ भारत-चीन के बीच टीका कूटनीति की रेस तेज होती दिख रही है।

बताया जा रहा है कि श्रीलंका के अनुरोध पर चीन ने तीन लाख टीके भेजने का फैसला लिया। चीनी कंपनी सिनोफर्मा निर्मित कोरोना टीके की पहली खेप श्रीलंका को फरवरी मध्य तक मिल जाएगी। चीन के दावों के मुताबिक वह कोरोना वैक्सीन के 10 मिलियन डोज़,अन्य देशों तक पहुंचाने के लिए तैयार है। कोरोना वैक्सीन के इस डिप्लोमेसी को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय का कहना है कि, ‘भारत से कोविड टीका हासिल करने में विभिन्न देशों को रूचि है।”

 भारत ने अभी तक करीब 55 लाख खुराकें उपलब्ध कराई हैं

 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि प्रधानमंत्री की कोविड से लड़ाई में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सहयोग की प्रतिबद्धता के मुताबिक भारत विभिन्न देशों को वैक्सीन दे रहा है। हमने अपने पड़ोस में सबसे पहले वैक्सीन उपलब्ध कराने का दायित्व निभाया है और इसके अलावा अन्य देशों को भी आपूर्ति की है।

भारत ने 20 जनवरी 2021 के बाद से अपने पड़ोसी देशों और विस्तारित पड़ोसी भूटान (1.5 लाख), मालदीव (1 लाख), नेपाल (10 लाख), बांग्लादेश (20 लाख), म्यांमार (15 लाख) मॉरीशस (1 लाख), सेशेल्स (50,000), श्रीलंका (5 लाख) और बहरीन (1 लाख) सहित करीब 55 लाख खुराकें उपलब्ध कराई हैं। ये आपूर्ति इन देशों के अनुरोधों पर आधारित हैं। प्रवक्ता ने बताया कि अगले कुछ दिनों में हम ओमान (1 लाख), करिकॉम देशों (5 लाख), निकारागुआ (2 लाख) और प्रशांत द्वीप राज्यों (2 लाख) को और अधिक मात्रा में वैक्सीन देने की योजना बना रहे हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD