[gtranslate]
world

इस्लामिक कट्टरपंथ के खिलाफ श्रीलंका हुआ सख्त

श्रीलंका ने कट्टरपंथी इस्लामिक गुटों पर लगाम लगाते हुए इस्लामिक स्टेट(आईएसआईएस) और अलकायदा समेत 11 पर पाबंनी लगाने का निर्णय लिया है। बुधवार को इसकी अधिकारिक घोषणा की गई थी। दरअसल पूरा श्रीलंका उस समय दहल गया था,जब 2019 में ईस्टर संडे में आत्मघाती हमला हुआ था। तब श्रीलंका सरकार ने स्थानीय स्थानीय जिहादी संगठन नेशनल थोहीथ जमात एवं दो अन्य संगठनों पर पाबंदी लगा दी थी। इस हमले में 270 लोगों की जान चली गई थी जिनमें 11 भारतीय थे। आतंकी संगठन आईएसआईएस से जुड़े स्थानीय इस्लामी चरपमंथी समूह नेशनलिस्ट तौहीद जमात के 9 आत्मघाती हमलावरों ने 3 गिरिजाघरों को निशाना बनाते हुए इन हमलों को अंजाम दिया था। वर्ष 2019 में तत्कालीन राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना द्वारा गठित विशेष जांच समिति ने मुस्लिम कट्टरपंथी संगठनों पर पाबंदी की सिफारिश की थी जो इस बौद्धबहुल देश में कट्टरपंथ की पैरवी करते रहे हैं।

यह भी पढ़े:फ्रांस के राष्ट्रपति का बड़ा बयान, 76 मस्जिदें हो सकती हैं बैन

अटॉर्नी जनरल डप्पुला डि लिवेरा के आधिकारिक बयान में कहा गया है कि उन्होंने अलकायदा और आईएसआईएस के साथ साथ 9 स्थानीय चरमपंथी संगठनों पर पाबंदी की मंजूरी दे दी है। अधिकारियों ने बताया कि जल्द ही इस संबंध में गजट नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा जिसके बाद यह इन संगठनों पर कानूनी रूप से प्रतिबंध लागू हो जाएगा। इससे पहले श्रीलंका के एक शीर्ष मंत्री ने मंगलवार को कहा कि 2019 में ईस्टर के दिन हुए हमलों के मुख्य षड़यंत्रकारी की पहचान कर ली गई है और वह एक कट्टरपंथी धर्मगुरु है। वह फिलहाल हिरासत में है। जन सुरक्षा मंत्री सरथ वीरशेखरा ने बताया कि नौफर मौलवी ईस्टर पर बम विस्फोटों का मुख्य षड़यंत्रकारी था।

कट्टरपंथ के खिलाफ पिछले कई सालों में कई देश उभरकर सामने आए है। श्रीलंका के अलावा यूरोपियन देश फ्रांस भी कई कट्टरवादी मस्जिदों पर बैन लगा दिया है। 30 अक्टूबर को फ्रांस के नीस शहर के चर्च में एक व्यक्ति ने चाकू से दो लोगों की हत्या और एक को गंभीर रुप से जख्मी कर दिया था। मृतकों में से एक महिला थी जिसकी उम्र तकरीबन 60 साल की थी। वह सुबह चर्च में प्रार्थना के लिए आई थी। हत्या का शिकार हुआ दूसरा व्यक्ति चर्च का ही अधिकारी था। उसका नाम विन्सेंट लोकुस था। इस धटना के कुछ दिन पहले ही फ्रांस में एक टीचर का सिर कलम इसलिए कर दिया गया था कि उनसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर चर्चा के दौरान शार्ली हेब्दों में छपा पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाया था। फ्रांस ने 76 मस्जिदों पर बैन लगा रखा हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD