world

जाकिर नाइक पर शिकंजा

मलेशिया :भगोड़े विवादित कट्टरपंथी उपदेशक जाकिर नाईक पर मलेशिया सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है.विवादास्पद इस्लामिक उपदेशक डॉ. जाकिर नाइक  की मुसीबत बढ़ती ही जा रही है। मलेशिया ने जाकिर नाइक  के धार्मिक उपदेश देने पर पाबंदी लगा दीहै। मलेशिया पुलिस का कहना है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर जाकिर नाइक के उपदेश देने पर प्रतिबंध लगाया गया है। जाकिर पर पूरे मलेशिया में भाषण देने पर रोक लगा दी गई है।  अब मलेशिया में कहीं पर भी वह धार्मिक उपदेश नहीं दे पाएगा।जाकिर पर हिंदुओं और चीन के लोगों की भावनाएं आहत करने का आरोप है। इससे पहले पुलिस में दर्ज कराई रिपोर्ट में नाइक ने दावा किया था कि उसने तो मलेशिया की इस बात के लिए तारीफ की थी कि वह किस तरह ‘हिंदू अल्पसंख्यकों’ के साथ व्यवहार करता है और उनके अधिकारों की रक्षा करता है. मलेशिया में नाइक की जमकर आलोचना हो रही है. मलेशिया के अल्पसंख्यकों के लिए दिए उसके कथित बयान के बाद देश भर में उसके खिलाफ 115 पुलिस रिपोर्ट दर्ज हो चुकी हैं।

पहले भी नाइक के कथित तौर पर दिए एक बयान को लेकर काफी विवाद हुआ था. उस पर आरोप है कि मलेशिया में रहने वाला भारतीय समुदाय मलेशियाई प्रधानमंत्री डॉ महातिर मोहम्मद की जगह भारत के पीएम नरेंद्र मोदी का अधिक समर्थक है. नाइक पर ये भी आरोप है कि उसने मुस्लिम बहुल मलेशिया में अल्पसंख्यक हिंदुओं और चीनी मूल के लोगों के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी कर देश की शांति भंग करने की कोशिश की है। नाइक ने कथित तौर पर ये भी कहा था कि मलेशिया में अल्पसंख्यक हिंदुओं की स्थिति भारत के अल्पसंख्यक मुसलमानों से बेहतर है. नाइक के प्रत्यर्पण के लिए भारत ने पूर्व में मलेशिया से आग्रह किया था। मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों के चलते भारत को उसकी तलाश है।

इससे पहले, कल सोमवार को नाइक  से 10 घंटे तक पूछताछ हुई. इसी बीच, इस पूरे मसले पर जाकिर ने अब गिड़गिड़ाते हुए माफी मांगी है. जाकिर ने अपने बयान में कहा कि मैं हमेशा से शांति का समर्थक रहा हूं, यही कुरान का मतलब है. पूरी दुनिया में शांति फैलाना मेरा मिशन रहा है. दुर्भाग्य से मेरे आलोचक, मेरे इस मिशन को रोकने का प्रयास कर रहे हैं।

You may also like