[gtranslate]
world

रूस ने की कोरोना संक्रमण रोकने वाले दवा बनाने की आधिकारिक घोषणा

रूस ने की कोरोना संक्रमण रोकने वाले दवा बनाने की आधिकारिक घोषणा

कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। रूस में कोरोना वायरस की संख्या 5 मिलियन से अधिक हो गई है। इसी बीच रूस ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए आधिकारिक तौर पर एक दवा की घोषणा की है। यह दवा देश के विभिन्न हिस्सों में उपलब्ध कराई जा रही है।

कोरोना वायरस का अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनाया गया है। हालांकि, रूस ने कोरोना के इलाज के लिए एंटी वायरल दवा एविफवीर का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। देश के लगभग सभी हिस्सों में दवा की आपूर्ति के लिए समझौते किए गए हैं। इस दवा की सूचना रूस में RDFI बोर्ड द्वारा दी गई है। बोर्ड ने यह भी दावा किया कि एविफवीर का उपयोग करने वाले कुछ रोगियों को चार दिनों के भीतर ठीक कर दिया गया था।

कोरोना के रोगियों की बढ़ती संख्या ने कई देशों को कमजोर बना दिया है। लॉकडाउन और कुछ अन्य उपायों के बाद भी, कोरोना की व्यापकता बढ़ रही है और अधिकांश देशों ने हार मान ली है। इसी तरह रूस में इस एंटी-वायरल दवा के उपयोग के बाद दुनिया भर के 10 देशों ने रूस से इस दवा की मांग की है।

इस बीच कुछ देशों में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए के वैक्सीन पर शोध चल रहा है। कई कंपनियां वैक्सीन के विकास और विपणन के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं साथ ही जॉनसन एंड जॉनसन ने आशा की एक किरण दिखाई है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस वैक्सीन तैयार है और अगले महीने मनुष्यों पर परीक्षण किया जाएगा। संयुक्त राज्य में हर दिन हजारों संक्रमित लोग पाए जा रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने घोषणा की है कि वह ऐसे समय में भी राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव प्रचार शुरू करेंगे।

हालांकि, भारत में लॉकडाउन को धीरे-धीरे कम किया जा रहा है। लेकिन रोगियों की बढ़ती संख्या चिंता को और बढ़ा रही है। इसलिए लॉकडाउन को शिथिल करने का निर्णय खतरनाक हो सकता है। एक संगठन का अध्ययन भारत के बारे में चिंताजनक निष्कर्षों के साथ आया है। जापान स्थित सुरक्षा फर्म नोमुरा ने कोरोना के प्रकोप के बाद देश में 45 अर्थव्यवस्थाओं का अध्ययन किया है। इसमें कहा गया है कि भारत ‘डेंजर जोन’ में है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD