[gtranslate]
world

बांग्लादेश में सत्ता की शह पर नियुक्तियों और ठेकों में दखल दे रहे अपराधी, अलजजीरा का खुलासा

अपराधियों का एक ग्रुप बांग्लादेश के सुरक्षा बलों के साथ मिलकर रिश्वत के माध्यम से स्टेट कॉन्ट्रैक्ट और नौकरियों में हस्तक्षेप कर रहा है। इनके बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ भी ‘बेहतर’ संबंध हैं। अल जजीरा की एक जांच रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। All the Prime Minister’s Men में इस बात का खुलासा हुआ है कि हत्या के दोषी हारिस और अनीस अहमद कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए विदेश भाग गए थे।

दोनों को उनके भाई द्वारा संरक्षण दिया जा रहा है, जो सेना में एक हाई रैंक ऑफिसर हैं। उनके भाई जनरल अजीज अहमद हैं, जो बांग्लादेश सेना के प्रमुख हैं और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के करीबी विश्वासपात्र हैं। दो साल तक चली इस जांच में अल जजीरा की जांच यूनिट हारिस और अनीस अहमद को ट्रैक करने में कामयाब रही, जिन्हें 1996 में मुस्तफिजुर रहमान मुस्तफा की हत्या में शामिल होने के लिए दोषी पाया गया था।

मुस्तफिजुर रहमान मुस्तफा को विपक्षी दल का एक नेता बताया जाता है। हत्या के बाद हारिस और अनीस अधिकारियों के शिकंजे से बचने में कामयाब हुए और विदेश में जाकर छिप गए। हारिस अभी भी देश के मोस्ट वांडेट अपराधियों की सूची में शामिल है। वो बांग्लादेश छोड़ बुडापेस्ट, हंगरी भागने में कामयाब हुआ था और मोहम्मद हसन नाम की अपनी ‘नकली पहचान’ के साथ वहां रह रहा है।

दूसरा भाई अनीस अहमद कुआलालंपुर में रह रहा है, जहां 2007 में हत्या के लिए दोषी ठहराए जाने के बाद वो फरार गया था। ये जानते हुए कि दोनों ही भाई बांग्लादेश के कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा वांटेड हैं, जनरल अजीज दोनों के ही संपर्क में हैं। हारिस और अनीस मार्च 2019 में अजीज के बेटे की शादी में शामिल होने के लिए ढाका भी आए थे। शादी में दोनों भगोड़ों के साथ बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हमीद और विदेशी गणमान्य व्यक्तियों ने भी हिस्सा लिया था।

दोनों का संबंध बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से लंबे समय से है। 1980-90 के दशक में विपक्षी और आवामी लीग की नेता होने के दौरान जब उनकी जान को खतरा था तब हारिस और अनीस हसीना के बॉडीगार्ड थे। अल जजीरा को मिली फोन रिकॉर्डिंग में जनरल अहमद ने बताया कि कैसे हसीना ने पार्टी के अहम नेता के भाइयों का बचाव किया। एक निगरानी दल ने जनरल अज़ीज़ का कुआलालंपुर तक पीछा किया, जहाँ उसे और अनीस को बांग्लादेश उच्चायोग को एक राजनयिक एस्कॉर्ट दिया गया।

जिस घर में अनीस ठहरे हुए थे, उसके लिए संपत्ति के रिकॉर्ड में दो मालिक, अनीस अहमद और मोहम्मद हसन, हरिस अहमद की नकली पहचान बताई गई थी। कुल मिलाकर, अहमद कबीले में पाँच भाई शामिल थे, जिनमें से चार अपराधी अंडरवर्ल्ड में थे। जांच जारी होने के बाद, बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर अल जज़ीरा के निष्कर्षों को एक “धब्बा अभियान” के रूप में वर्णित किया, जो विदेशों में स्थित शासन के विरोधियों द्वारा अभिहित किया गया था। इसने बांग्लादेश के सेनाध्यक्ष के भाई द्वारा दिए गए बयानों को निराधार बताया और कहा कि हरीश अहमद का प्रधानमंत्री शेख हसीना या किसी अन्य राज्य संस्थान से कोई संबंध नहीं है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD