world

सूरीनाम के राष्ट्रपति को 20 साल की सजा

सूरीनाम के राष्ट्रपति डिसाइ बूटर्स कोे 37 साल पुराने एक मामले में 20 साल जेल की सजा सुनाई गई है। पारामारिबो की कोेर्ट ने बूटर्स को 1982 में वकीलों, पत्रकारों और विपक्ष के यूनियन लीडर्स समेत 15 लोगों को गोली मरवाने का दोषी पाया है।सूरीनाम के राष्ट्रपति डिसाइ बूटर्स फिलहाल चीन के आधिकारिक दौरे पर हैं। बूटर्स के पास सजा के खिलाफ अपील करने के लिए दो हफ्ते का समय है।

दरअसल डिसाइ बूटर्स ने 1980 में सूरीनाम में तत्कालीन प्रधानमंत्री हेंक एरन के खिलाफ सैन्य तख्तापलट में अहम भूमिका निभाई थी। इसके लिए उन्हें पहले आर्मी चीफ बनाया गया और बाद में सूरीनाम का प्रमुख पद दिया गया। सैन्य राज हटने के बाद उन्होंने नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी (एनडीपी) का नेतृत्व किया। 2010 में चुनाव जीतने के बाद वे देश के राष्ट्रपति बने। बूटर्स के खिलाफ कोर्ट ने 12 साल पहले हत्या के आरोपों की जांच शुरू की। उनकी पार्टी ने सुनवाई रोकने के लिए कई कोशिशें कीं। इस दौरान बूटर्स के साथ काम कर चुके हत्या के 6 आरोपियों की मौत हो गई। 2012 में संसद ने बूटर्स को बचाने के लिए कानून भी पास कर दिया। हालांकि, कोर्ट ने कानून को गलत बताते हुए उसे निष्क्रिय कर दिया। नीदरलैंड की एक अदालत ने भी बूटर्स को 1999 में ड्रग ट्रैफिकिंग के मामले में दोषी पाया था। हालांकि, उन्होंने आरोपों से इनकार कर दिया था।

बूटर्स अपने ऊपर लगे आरोपों को नकारते हुए कह चुके हैं कि 1982 में जो भी लोग मारे गए, वे पारामारिबो के किले से भागने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि, मानवाधिकार संगठन इसे बड़ी साजिश का हिस्सा मानते हैं।सैन्य अदालत का यह फैसला 1982 के मामले का है जब बोटर्स इस दक्षिण अमेरिकी देश के तानाशाह थे और  उनके विरुद्ध राजनीतिक विरोधियों की हत्त्या का मामला डाइज हुआ था। सैन्य अदालत ने इसी मामले में बोटर्स को वकीलों, पत्रकारों , विपक्ष के यूनियन लीडर्स समेत 15 लोगों को गोली मरवाने का दोषी पाया है।2007 में बोटर्स और 24 अन्य संदिग्धों के विरुद्ध यह मामला दर्ज हुआ था। राष्ट्रपति के वकील इरविन कैनहई ने कहा है कि चीन यात्रा से लौटने पर बोटर्स इस फैसले के खिलाफ अपील करेंगे।

You may also like