world

संयुक्त राष्ट्र से भी उलटे पांव लौटा पाक 

 

 

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी ) में चीन की मांग पर जम्मू कश्मीर मुद्दे को लेकर बैठक खत्म हो गईहै।  यूएनएससी   में कश्मीर को लेकर जहां रूस भारत के पक्ष में नजर आया. वहीं चीन ने पाकिस्तान के सुर में सुर मिलाए. हालांकि रूस ने कश्मीर को लेकर सिर्फ द्विपक्षीय बातचीत का समर्थन किया है। 

यूएनएससी की बैठक खत्म होने के बाद चीनी राजदूत ने कहा कि भारत ने जो संवैधानिक संशोधन किया है उससे मौजूदा स्थिति बदल गई है। और कोई पक्ष एकतरफा कार्रवाई न करे. ऐसी एकतरफा कार्रवाई वैध नहीं है।संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि अनुच्छेद 370 भारत का आंतरिक मसला है, इसमें बाहरी लोगों की जरूरत नहीं . जम्मू-कश्मीर के सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए भारत ने यह फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि सरकार धीरे-धीरे पाबंदियां कश्मीर से हटा रही है।साथ ही अकबरुद्दीन ने कहा कि पाकिस्तान जिहाद की बात कर हिंसा फैला रहा है, हम अपनी नीति पर हमेशा की तरह कायम हैं। हिंसा किसी भी समस्या का हल नहीं है. और बातचीत से पहले पाकिस्तान को आतंकवाद को रोकना होगा। 

दरअसल, हाल ही में जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. कश्मीर मुद्दा उसके गले की हड्डी बन गया है. अंतरराष्ट्रीय मंच पर उसने यह मुद्दा काफी बार उठाया, लेकिन उसकी एक भी दलील काम नहीं आई. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के लगभग सभी देशों (चीन को छोड़कर) ने उसे उलटे पांव लौटा दिया. उसका इस मुद्दे पर सिर्फ चीन ही साथ दे रहा है। 

You may also like