[gtranslate]
world

यूक्रेन से 10 लाख लोगों ने किया पलायन : यूएनएचसीआर

रूस यूक्रेन के जंग के कारण दुनिया भर में तरह तरह की समस्याएं उत्पन्न हो गई हैं। इसमें सबसे बड़ी समस्या शरणार्थी है।संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के मुताबि,रूस के द्वारा यूक्रेन पर हमला करने के बाद से लगभग 10 लाख लोग यूक्रेन छोड़कर चले गए हैं। इस सदी में पहले कभी इतनी तेज गति से कभी भी पलायन नहीं हुआ है। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग के आंकड़ों के मुताबिक, यूक्रेन से पलायन करने वाले लोगों की संख्या आबादी के दो प्रतिशत से अधिक है। विश्व बैंक के अनुसार वर्ष 2020 के अंत में यूक्रेन की आबादी चार करोड़, 40 लाख थी। वही संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी का अनुमान है कि यूक्रेन से 40 लाख लोग पलायन कर सकते हैं। ये सिर्फ अनुमान है संख्या और भी बढ़ सकती है।

 

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी की प्रवक्ता जोंग-आह घेदिनी-विलियम्स ने एक ईमेल में लिखा कि राष्ट्रीय अधिकारियों की गणना के अनुसार ‘‘हमारे आंकड़े बताते हैं कि मध्य यूरोप में हमने आधी रात में 10 लाख की संख्या पार कर ली है।’’

इसकी जानकारी संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त फिलिप्पो ग्रांडी ने भी ट्वीट कर के दिया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि किया, ‘‘हमने मात्र सात दिन में यूक्रेन से पड़ोसी देशों में 10 लाख लोगों का पलायन देखा है।’’युद्ध के दौरान यूक्रेन छोड़कर जाने वाले इन लोगों में समाज के अधिकतर कमजोर वर्ग के लोग शामिल हैं, जो पलायन को लेकर स्वयं फैसला करने में सक्षम नहीं हैं और उनकी यात्रा को सुरक्षित बनाने के लिए उन्हें सहायता की आवश्यकता है।

हंगरी के शहर जाहोनी में लगभग 200 से अधिक दिव्यांग यूक्रेनी पहुंचे, जो यूक्रेन की राजधानी कीव में दो आश्रय गृहों में रहते थे।शरणार्थियों में कई बच्चे शामिल हैं। इनमें कई ऐसे लोग शामिल हैं, जो मानसिक या शारीरिक रूप से अक्षम हैं और जिन्हें रूसी हमले के कारण आपने देश यूक्रेन को छोड़कर दूसरे देश में आश्रय लेना पड़ रहा है। कीव में स्वयातोशिंकसी अनाथालय की निदेशक लारिसा लियोनिदोवना का कहना है कि, ‘‘वहां रहना सुरक्षित नहीं था। रॉकेट गिर रहे थे। वे कीव पर हमला कर रहे थे। हमने बमबारी के दौरान कई घंटे से अधिक समय भूमिगत स्थल में बिताया।’’

यह भी पढ़े :तीसरे विश्व युद्ध को लेकर क्या सच हो जाएगी नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी की आंकड़ों के मुताबिक, यूक्रेन से आधे से अधिक शरणार्थी पोलैंड गए है। जिनकी संख्या लगभग 5 लाख 5 हज़ार है। 1लाख 16 हज़ार 3 सौ से अधिक लोगों ने हंगरी में प्रवेश किया है और 79हज़ार 3 सौ से अधिक लोगों ने मोल्दोवा में प्रवेश किया है। इनके अलावा 71हज़ार लोग स्लोवाकिया गए हैं और करीब 69 हज़ार 6 सौ लोग अन्य यूरोपीय देशों में चले गए हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD