[gtranslate]
world

जाते-जाते ट्रंप ने भारत को दी ‘दोस्ताना सलाह’

बुधवार यानी की 20 जनवरी को अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन के शपथ लेने के बाद ही अब  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का कार्यकाल समाप्त हो चुका है। इससे पहले, अपने फेयरवेल स्पीच में ट्रम्प ने अमेरिकी लोगों को संबोधित किया। इसमें उन्होंने 6 जनवरी को अमेरिका की राजधानी में कैपिटल हिल पर हुई हिंसा की निंदा भी की है। वहीं, ट्रंप ने अपनी फेयरवेल स्पीच में मित्र देशों को दोनों देशों से सावधान रहने की चेतावनी दी है।ट्रम्प प्रशासन चीन को कई बार चेतावनी दे चुका है।

माइक पोम्पियो, जिन्होंने ट्रम्प प्रशासन में राज्य सचिव के रूप में कार्य किया। उन्होंने भारत के लिए एक विशेष ट्वीट किया है। इसमें पोम्पियों ने ब्राजील के राष्ट्रपति ज़ैरे बोल्सोनारो और भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एक तस्वीर साझा की है। इस तस्वीर को साझा करते हुए उन्होंने भारत और ब्राजील दोनों को बेहतर संबंधो के लिए धन्यवाद दिया है। पोम्पियो ने ट्वीट कर पूछा, “क्या आपको ब्रिक्स याद है?” इस ट्वीट में पोम्पियो का कहना है कि ‘बी’ और ‘आई’ वाले लोगों को ‘सी’ और ‘आर’ से खतरा है। पोम्पियो ने कहा कि ब्राजील और भारत, यानी भारतीय नागरिकों को चीन और रूस से खतरा है। ट्रम्प प्रशासन के दौरान भारत-अमेरिका संबंध हमेशा से ही मैत्रीपूर्ण रहे हैं। ट्रंप और मोदी ने अक्सर एक दूसरे की प्रशंसा भी की है।

क्या है ‘BRICKS’ ?

  • ब्रिक्स दुनिया की अग्रणी उभरती अर्थव्यवस्थाओं – ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के समूह का एक संक्षिप्त नाम है। ब्रिक्स एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन है जिसमें ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं।
  • शुरुआती में ब्रिक्स में दक्षिण अफ्रीका शामिल नहीं था तब यह चार ही देशों का समूह था और इसे BRIC कहा जाता था, पहला BRIC शिखर सम्मेलन वर्ष 2009 में रूस में आयोजित किया गया था।
  • दिसंबर 2010 में दक्षिण अफ्रीका को BRIC में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया था, जिसके बाद दक्षिण अफ्रीका ने चीन में आयोजित तीसरे शिखर सम्मेलन में भाग लिया और तब इस समूह का नाम  BRICS हुआ।

बिडेन के लिए परेशानी खड़ी रहेगा ट्रंप का आदेश

You may also like

MERA DDDD DDD DD