[gtranslate]
world

खागोशी हत्याकांड में आया नया मोड़, जांचकर्ता को सऊदी ने दी धमकी

पत्रकार जमाल खागोशी मामले पर रिपोर्ट पेश करने वाली संस्था संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार के एक अधिकारी को सऊदी की तरफ से घमकी दी गई है। संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार प्रवक्ता रूपर्ट कोलविले ने बुधवार को रायटर को दिए एक ईमेल के जवाब में, सारांश हत्याकांड पर संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञ एग्नेस कैलमार्ड के खतरों के बारे में गार्जियन अखबार में प्रकाशित विवरण की सटीकता की पुष्टि की। गार्जियन ने मंगलवार को कॉलमार्ड के हवाले से कहा था कि एक सऊदी अधिकारी ने धमकी दी थी कि अगर पत्रकार की हत्या में उसकी जाँच के बाद उसका पुन: उपयोग नहीं किया गया तो उसका उसे ध्यान में रखा जाएगा।

Colville ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार कार्यालय ने कॉलमार्ड को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा और अधिकारियों को ब्रीफिंग के अलावा खतरे के बारे में सूचित किया था। कैलमार्ड ने गार्डियन को बताया कि धमकी को जनवरी 2020 में जिनेवा में सऊदी और संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों के बीच हुई बैठक में व्यक्त किया गया था और उसे संयुक्त राष्ट्र के एक सहयोगी द्वारा घटना के बारे में बताया गया था। कॉलमार्ड ने अक्टूबर 2018 में राज्य के इस्तांबुल वाणिज्य दूतावास में सऊदी एजेंटों द्वारा खशोगी की हत्या की संयुक्त राष्ट्र जांच का नेतृत्व किया।

अमेरिका में रह रहे सऊदी के पत्रकार जमाल खागोशी की हत्या के मामले में पांच दोषियों को मौत की सजा सुनाई गई थी, वहीं तीन अन्य दोषियों को 24 साल जेल की सजा दी गई है। क्राउन प्रिंस के कठोर आलोचक रहे खशोगी की हत्या तुर्की में सऊदी के वाणिज्य दूतावास में कर दी गई थी। इस हत्या के बाद दुनियाभर में सऊदी के खिलाफ प्रदर्शन हुए थे। खशोगी वॉशिंगटन पोस्ट अखबार के लिए एक स्तंभ लिखते थे और गायब होने से पहले अमेरिका में रहते थे। उन्हें अंतिम बार 2 अक्टूबर 2018 को इस्तांबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में प्रवेश करते देखा गया था, जहां वह तुर्की की अपनी मंगेतर से शादी करने के लिए कुछ कागजात लेने गए थे। अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार समूह ने सऊदी पत्रकार जमाल खागोशी हत्या के लिए न्याय की मांग की थी।

अमेरिका की खुफिया एजेंसी ने कहा कि जमाल खागोशी की हत्या के पीछे सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का हाथ था। उन्हीं के कहने पर खागोशी की हत्या हुई। इतना ही नहीं मोहम्मद सलमान खागोशी को सऊदी के लिए खतरा मानते थे। हालांकि अमेरिका के द्दारा लगाए गए आरोपों को सऊदी ने सिरे से नकार दिया है। सऊदी अधिकारियों ने इस बात से इनकार किया है कि हत्या में मोहम्मद बिन सलमान की कोई भूमिका थी।लेकिन व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने कहा कि बिडेन प्रशासन रिपोर्ट जारी होने के बाद खशोगी की हत्या के जवाब में कार्रवाई की घोषणा करेगा। अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने अपने आकलन के आधार पर कहा कि सऊदी अरब के राजकुमार ने ऑपरेशन को मंजूरी दी थी। क्योंकि देश में निर्णय लेने का नियंत्रण और प्रमुख सलाहकारों को आदेश देने का नियंत्रण मोहम्मद बिन सलमान के हाथों में है। खुफिया रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2017 के बाद से, क्राउन प्रिंस को राज्य की सुरक्षा और खुफिया संगठनों पर पूर्ण नियंत्रण प्राप्त था। यह अत्यधिक संभावना नहीं है कि सऊदी अधिकारियों ने क्राउन प्रिंस के प्राधिकरण के बिना इस आपरेशन का संचालन किया होगा।

You may also like

MERA DDDD DDD DD