world

सऊदी अरब में विद्रोहियों के खिलाफ हवाई हमले में 100 से ज्यादा लोगों की मौत 

सऊदी  अरब के यमन में विद्रोहियों के खिलाफ लड़ रहे सऊदी अरब नीत गठबंधन ने कल 1 सितंबर रविवार को धमार शहर स्थित एक हिरासत केन्द्र पर हवाई हमले किए जिसमें 100 से ज्यादा लोगों के मारे जाने की आशंका है। इंटरनेशनल कमेटी ऑफ द रेड क्रॉस (आईसीआरसी) ने  यह जानकारी दी है ।

यमन में आईसीआरसी के प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख फ्रांज रॉसेनस्टीन ने धमार का दौरा करने के बाद बताया, हमारे आकलन के अनुसार 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं। उन्होंने बताया कि हमले में घायल हुए कम से कम 40 लोगों का शहर के अस्पताल में इलाज चल रहा है। सऊदी अरब नीत गठबंधन का कहना है कि उसने धमार में हुती सैन्य शिविर को निशाना बनाया है जहां ड्रोन और मिसाइल रखे जाते हैं। हालांकि, हुती टीवी चैनल अल-मसिरा का कहना है कि सात हवाई हमले में दर्जनों लोग मारे गए हैं और घायल हुए हैं। हमला हिरासत केन्द्र पर हुआ है।

इससे पहले यमन के दक्षिणी अब्यान प्रांत में तीन अगस्त को एक सैन्य अड्डे पर अलकायदा के हमलावरों द्वारा की गई गोलबारी में 19 सैनिकों की मौत हो गई थी । यह हमला आधी रात को शुरू हुआ जब आंतकवादियों ने यमनी सेना के एक शिविर पर रॉकेट से ग्रेनेड दागे थे ।

एक सरकारी सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि अलकायदा के बंदूकधारियों ने अदन में  हुए बम धमाके का फायदा उठाकर अल महफाद सैन्य अड्डे पर हमला किया और सैनिकों से मुठभेड़ की। इससे  एक दिन पहले ही अदन में दोहरे हमले हुए थे। इस हमले में कम से कम 51 लोग मारे गए थे। यह हमला पिछले दो वर्षों का सबसे घातक हमला था। साल 2014 में यमन में ताजा संघर्ष शुरू हुआ, जब पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सालेह के वफादार सैनाओं ने हुती लड़कों के साथ मिलकर सेना के साथ देश के अधिकांश हिस्सों को कब्जा कर लिया।मार्च 2015 में युद्ध तेज हो गया जब सऊदी अरब-यूएई के नेतृत्व वाले गठबंधन सेनाओं ने विद्रोहियों के खिलाफ राष्ट्रपति अब्द-रब्बू मंसूर हादी की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सरकार को बहाल करने के लिए हस्तक्षेप किया था ।

You may also like