world

यूएई  के बाद आज बहरीन पहुंचेंगे मोदी, 200 साल पुराने मंदिर का करेंगे उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस के बाद संयुक्त अरब अमीरात यूएई पहुंचे।  पीएम मोदी का यह तीसरा यूएई दौरा है ,उनका यह दौरा बेहद खास माना जा रहा है। जहां वह संयुक्त अरब अमीरात के क्राउन प्रिंस शेख मुहम्मद बिन जायेद अल नाहयान से मुलाकात करेंगे। आज उन्हें यूएई का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भी मिलेगा। इस दौरान वह क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मामलों पर बात करेंगे। अपनी यात्रा के दौरान मोदी  विदेशों में नकदी रहित लेनदेन का विस्तार करने के लिए रुपे कार्ड का औपचारिक रूप से शुभारंभ भी करेंगे।

मोदी ने ट्वीट किया, ”अबू धाबी पहुंचा हूं। शहजादे शेख मोहम्मद बिन जायद के साथ वार्ता को लेकर आशान्वित हूं और भारत तथा यूएई के बीच मित्रता के सभी पहलुओं पर चर्चा होगी। यात्रा के दौरान आर्थिक संबंधों को मजबूत बनाना भी एजेंडे में होगा।”

मोदी को यूएई सरकार अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ जायद” से भी नवाजेगी। इसके बाद मोदी अबू धाबी से बहरीन जाएंगे जहां वह बहरीन के शाह शेख हमाद बिन इसा अल खलीफा से बातचीत करेंगे और जी7 शिखर बैठकों में शामिल होने के लिए कल 25 अगस्त को फ्रांस लौटने से पहले खाड़ी क्षेत्र में सबसे पुराने श्रीनाथजी के मंदिर के पुनरुद्धार की औपचारिक शुरुआत के साक्षी बनेंगे। मोदी की बहरीन यात्रा इसलिए भी महत्वपूर्ण होगी क्योंकि किसी भारतीय प्रधानमंत्री की इस देश की यह पहली यात्रा होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय यात्रा पर आज 24 अगस्त को इस्लामिक देश बहरीन पहुंचेंगे।प्रधानमंत्री मोदी की ये यात्रा ऐसे समय हो रही है जब पाकिस्तान कश्मीर मसले को लेकर मुस्लिम देशों का समर्थन पाने की कोशिश कर रहा है। हालांकि बहरीन जैसे देश से उसे असफलता मिल चुकी है. बहरीन के किंग हमद बिन इसा अल खलीफा कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को नजरअंदाज कर चुके हैं।

अपनी यात्रा के दौरान पीएम मोदी बहरीन के प्रधानमंत्री प्रिंस शेख खलीफा बिन सलमान अल खलीफा से द्विपक्षीय संबंधों के सभी आयामों व आपसी हित के क्षेत्रीय व अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा करेंगे।बहरीन में 3,50,000 भारतीय नागरिक हैं, जो देश के विकास में योगदान दे रहे हैं, यहां पर 3000 से ज्यादा भारतीय स्वामित्व/संयुक्त उपक्रम भी मौजूद हैं, जो दोनों देशों के बीच गहरे आर्थिक जुड़ाव का संकेत देता है।

इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी कल रविवार यानी 25 अगस्त को जी-7 की बैठक में शामिल होने के लिए वापस फ्रांस जाएंगे।जी-7 दुनिया के सात सबसे विकसित और औद्योगिक महाशक्तियों का संगठन है। इस संगठन में अमेरिका, फ्रांस, इंग्लैंड, कनाडा, इटली,जर्मनी और जापान शामिल हैं।

You may also like