रूस में चल रहे विश्वकप फुटबॉल में जब मैक्सिको को हराकर ब्राजील ने अंतिम आठ में अपने लिए जगह मुक्कमल की थी उसके कुछ ही घंटे बाद या उसी दौरान मैक्सिको में सियासी शह-मात का खेल भी चल रहा था। कोई हार रहा था-किसी के सिर जीत का सेहरा बंध रहा था। वहां की जनता का बदला हुआ मन-मिजाज एक राजनीतिक शक्ल अख्तियार कर रहा था।

एक ऐसे दौर में जब तरक्की पसंद लोगों में यह खौफ विस्तार कर रहा था कि दुनिया के अधिकतर देशों में कट्टरपंथी ताकतें हावी हो रही हैं। मैक्सिको के चुनावी नतीजे ने उन्हें राहत देने का काम किया है। मैक्सिको की राजनीति में एक नया परिवर्तन हुआ है। वहां एक जुलाई को हुए राष्ट्रपति चुनाव में वामपंथी नेता आंद्रेस मैनुअल लोपेस ओब्राडोर ने जीत दर्ज की है। वहां वर्ष 1929 से हर छह साल में राष्ट्रपति चुनाव होते रहे हैं। लेकिन अभी तक देश के सिर्फ दो ही प्रमुख दल नेशनल एक्शन पार्टी और इंस्ट्यिशनल रेवोल्यूशनरी पार्टी ने देश में शासन किया है। लोपेज ओब्राडोर देश के पहले राष्ट्रपति होंगे जो इन दोनों दल से जुदा हैं। वहां की जनता पहली बार एक पार्टी के शासन से वाकिफ होगी। वहां की जनता ने पहली पर लाल सलाम किया है। मैक्सिको सिटी के पूर्व मेयर लोपेज को 53 प्रतिशत मत मिले। वह एक दिसंबर से राष्ट्रपति पद पर काबिज होंगे। अपनी जीत के बाद लोपेज ने कहा है कि अब मैक्सिको में महत्वपूर्ण बदलाव होने जा रहा है। उन्होंने भरोसा दिलाया कि वह यथार्थ में लोकतंत्र स्थापित करने की मांग करने के साथ-साथ वित्तीय अनुशान के जरिए भ्रष्ट्रायार पर भी अंकुश लगाने का संकल्प लेते हैं। वह अमेरिका से दोस्ताना संबंध जरूर चाहते हैं।

स्मरण रहे डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद उनकी आव्रजन नीति को लेकर दोनों देशों में तकरार है। हालांकि ट्रंप ने उनके राष्ट्रपति बनने पर बधाई दी है। आर्थिक नीतियों के साथ-साथ देश की हिंसा और ड्रग्स माफिया पर अंकुश नए राष्ट्रपति के लिए काफी चुनौतीपूर्ण होगा। पिछले कुछ समय से मैक्सिको में हिंसा की घटनाओं में तेजी आयी है। हिंसा की अधिकतर घटनाओं में ड्रग्स बेचने वाले समूह शामिल रहे हैं।

तुर्की में एक कट्टरपंथी ताकत के उदय के बाद मैक्सिको में लोपेज के जरिए वामपंथी के उदय से एक खास तबके के लोगों ने राहत की सांस ली है। इस जीत से दुनिया के सियासी माहौल में कुछ संतुलन और सुखद सा बनता दिखाई दे रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like