[gtranslate]
world

अमेरिका में बढ़ता अवैध हथियारों का कारोबार

दुनिया भर में अवैध हथियारों का काला कारोबार तेजी से बढ़ रहा है। भारत और दक्षिण एशिया के देशों में ही अवैध हथियारों की समस्या नहीं है, बल्कि अमेरिका में भी है। अमेरिका में इन्हें घोस्ट गन कहा जाता है और इन्होंने सरकार को पूरी तरह चिंता में डाल रखा है।

इसी के मद्देनजर बाइडेन प्रशासन एक नया कानून ला रहा है, जिससे घोस्ट गन यानी अवैध बंदूकों पर पूरी तरह से बैन लग पाएगा। ये ऐसे हथियार हैं जिनका कोई सीरियल नंबर नहीं होता है। पिछले वर्षों से अपराध की घटनाओं में इनका उपयोग बढ़ रहा है।

व्हाइट हाउस और न्याय विभाग, अमेरिकी राष्ट्रपति के कार्यालय का तर्क है कि बंदूक के पुर्जों की बिक्री को नियंत्रित करके और डीलरों के लिए घोस्ट गन पर सीरियल नंबर लगाना अनिवार्य करके हिंसक अपराधों को कम किया जा सकता है। सरकार का यह भी मानना ​​है कि इससे पुलिस को अपराधों की जांच में भी मदद मिलेगी। हालांकि, बंदूक समर्थक समूहों का कहना है कि सरकार ओवरबोर्ड जा रही है और यह नियम संघीय कानून का उल्लंघन है।

घोस्ट गन क्या हैं?

दरअसल, घोस्ट गन निजी तौर पर बनाई गई बंदूकें होती हैं, जिनका कोई सीरियल नंबर नहीं होता है। आमतौर पर लाइसेंस के साथ बंदूकें बनाने वाली कंपनियों के लिए सीरियल नंबर लगाना जरूरी होता है। इसे बंदूक पर इस तरह से रिकॉर्ड किया जाता है कि इसे देखा जा सके। अपराध की जांच कर रहे अधिकारी इस सीरियल नंबर की मदद से निर्माता, डीलर और फिर असली खरीदार तक पहुंचते हैं ।

घोस्ट गन मेकर किट

इसके विपरीत घोस्ट गन बनाने के लिए अलग-अलग पुर्जे या पुर्जे खरीदे जाते हैं और एक साथ जोड़े जाते हैं। ऐसी बंदूकों का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा निचला रिसीवर कहलाता है। यह धातु या पॉलीमर से बना होता है और अक्सर इसे इस तरह से बेचा जाता है कि खरीदार खुद इसके पुर्जे असेंबल करके बंदूक बना सकता है। इस प्रकार का रिसीवर यानी जो पूरी बंदूक नहीं है, उसे बिना सीरियल नंबर या किसी अन्य पहचान के ऑनलाइन खरीदा जा सकता है। वर्तमान कानूनों के तहत, संघीय सरकार कम रिसीवर को बंदूकें या आग्नेयास्त्र नहीं मानती है।

नया कानून क्या करेगा?

नया कानून बन्दूक या बंदूक की परिभाषा बदल देगा। इसके बाद बंदूक बेचने वाले डीलरों को इस तरह से बनी घोस्ट गन पर भी सीरियल नंबर लगाना होगा । यूएस ब्यूरो ऑफ अल्कोहल, टोबैको, फायरआर्म्स एंड एक्सप्लोसिव्स कई वर्षों से कह रहा है कि कम रिसीवर एक बन्दूक की परिभाषा में फिट नहीं होते हैं। इसके साथ ही अमेरिका को अपने हथियार बनाने की भी आजादी है और यह गैर कानूनी नहीं है। अगर आप अपने इस्तेमाल के लिए कोई हथियार बनाते हैं और उसे बेचने का इरादा नहीं रखते हैं, तो यह पूरी तरह से कानूनी है। अगर आप हथियार बेचने का बिजनेस शुरू करते हैं तो इसके लिए आपको लाइसेंस लेना होगा।

बंदूक नियंत्रण पर ओबामा की नीति

परिवर्तनों की घोषणा करते ही राष्ट्रपति ओबामा रो पड़े। आंखों में आंसू लिए उन्होंने 2012 के सैंडी हुक एलीमेंट्री स्कूल हमले को याद किया जिसमें 20 वयस्क और 6 बच्चे मारे गए थे।

नए कानून के तहत बन्दूक या बंदूक की परिभाषा में उसके अधूरे हिस्से भी शामिल होंगे। हैंडगन का फ्रीऑन या लॉन्ग गन का रिसीवर भी इसके दायरे में आएगा। नए कानून की आवश्यकता होगी कि इन भागों में सीरियल नंबर हों। डीलरों को पहले उन्हें बेचने के लिए खरीदार की पृष्ठभूमि को देखना होगा, जैसा कि वे आमतौर पर बिक्री के लिए बनाई गई अन्य बंदूकों के साथ करते हैं।

बंदूक कैसे बनाई गई इस पर नए नियम से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। इसका मतलब यह है कि अलग-अलग पार्ट, किट या 3डी प्रिंटर से बनी घोस्ट गन भी इस नियम के दायरे में आएगी। इसके साथ ही यह लाइसेंस प्राप्त डीलरों और बिना सीरियल नंबर के बंदूक खरीदने वालों के लिए सीरियल नंबर अनिवार्य कर देगा। इसका मतलब यह है कि अगर कोई बिचौलिए या डीलर को बंदूक बेचता है, तो डीलर को उसे फिर से किसी और को बेचने से पहले उस पर सीरियल नंबर डालना होगा।

अमेरिका में घोस्ट गन कोई नई बात नहीं है, लेकिन अब वे पूरे अमेरिका में कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए सिरदर्द बन रही हैं। संघीय अधिकारी स्थानीय रूप से निर्मित सैन्य अर्ध-स्वचालित राइफलों और हैंडगन के बढ़ते काले बाजार के बारे में चेतावनी देना जारी रखते हैं। इसके अलावा बिना सीरियल नंबर वाली बंदूकों का अपराध में खूब इस्तेमाल हो रहा है। जब संघीय एजेंट अंडरकवर ऑपरेशन में अपराधियों से बंदूकें खरीदते हैं, तो ऐसी बहुत सारी बंदूकें होती हैं।

घोस्ट गन पहली बार 2013 में जोरदार तरीके से सामने आई, जब जॉन जवाहर ने कैलिफोर्निया के सांता मोनिका कॉलेज के परिसर में आग लगा दी। इस घटना में जवाहिरी के भाई और उसके पिता समेत छह लोगों की मौत हो गई थी। संदिग्ध की पृष्ठभूमि देखने के बाद जब डीलर ने उसे बंदूक बेचने से मना किया तो उसने अपनी एआर-15 बंदूक खुद बना ली।

गन कंट्रोल एक्ट 1968 के अनुसार, यहां संघीय स्तर पर रहने वाले और कानूनी रूप से 18 वर्ष के रहने वाले नागरिक शॉटगन, राइफल और गोला-बारूद खरीद सकते हैं। अन्य बंदूकें (आग्नेयास्त्र) जैसे हैंडगन केवल 21 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोगों को ही बेची जा सकती हैं। राज्य या स्थानीय प्राधिकरण उच्च आयु प्रतिबंध लगा सकते हैं लेकिन संघीय कानून कम आयु सीमा की अनुमति नहीं देते हैं।

2017 में उत्तरी कैलिफोर्निया में एक बंदूकधारी ने अपनी पत्नी और चार अन्य लोगों की हत्या कर दी थी। उसे भी हथियार रखने की अनुमति नहीं थी और उसने खुद अपने लिए हथियार बनाए। इसी तरह, 2019 में, लॉस एंजिल्स के एक किशोर ने अपनी कक्षा में दो छात्रों को मारने के लिए एक घोस्ट गन का इस्तेमाल किया और तीन अन्य को घायल कर दिया।

यह भी पढ़ें : भारत सहारे रुसी हीरों का व्यापार

You may also like

MERA DDDD DDD DD