world

इंग्लैंड के गुरुद्वारे और मस्जिद में आग

यूरोप के कई देशों में धर्मिक उन्माद बढ़ता जा रहा है
विश्व भर में धार्मिक असहिष्णुता बढ़ती जा रही है। दुनिया के अलग-अलग देशों में हिंसक घटनाएं भी बढ़ रही है। हालिया घटना इंग्लैंड का है। इंग्लैंड के शहर लीड्स में एक ही समय एक मशहूर गुरुद्वारे और मस्जिद में आग लग गई। स्थानीय पुलिस के मुताबिक यह आग घृणा के कारण लगाई गई है।
लीड्स शहर के लेडी पिट लेन में गुरुनानक निष्काम सेवक जत्था गुरुद्वारा के साथ हार्डी स्ट्रीट बेस्टन के जामिया मस्जिद अबू हुरैरा मस्जिद पर हमला किया गया था। चार जून को सिटी सेंटर के दक्षिण में स्थित मस्जिद के मुख्य दरवाजे में सुबह करीब 3 बजकर 45 मिनट पर आग लगा दी गई। जिसके कुछ मिनटों बाद ही गुरुद्वारे के दरवाजे में भी आग लगने की घटना सामने आई। इस घटना पर सिख प्रेस एसोसिएशन ने कहा कि एक पेट्रोल से भरी बोतल गुरुद्वारे के मुख्य द्वार पर फेंकी गई जिसके बाद फायर अलार्म बज उठा और समय रहते ही आग पर काबू पा लिया गया।
लीड्स शहर की सीआईडी के डिटेक्टिव इंस्पेक्टर रिचर्ड होल्म्स ने कहा, ‘हम इन दोनों घटनाओं की जांच दोनों धार्मिक स्थलों की नजदीकी को ध्यान में रखकर कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि हालांकि हमारी जांच अभी प्रारंभिक दौर में ही है, लेकिन हमारा मानना है कि इन परिसरों को विशेष तौर पर धार्मिक स्थल होने के कारण लक्षित किया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि हम दोनों घटनाओं को घृणित अपराधों के रूप में देख रहे हैं।
गुरुद्वारे के प्रतिनिधियों ने एक बयान में कहा, ‘हमने पुलिस के साथ आपातकालीन बैठक की है और पुलिस प्रमुख ने हमें आश्वासन दिया है कि वे अपराधियों को पकड़ने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। साथ ही पुलिस ने अतिरिक्त गश्त लगाने की भी बात कही है।
लीड्स शहर के पुलिस प्रमुख ने इस घटना पर कहा, ‘इन समुदायों के धार्मिक स्थानों को खासतौर पर निशाना बनाया गया है। हो सकता है यह किसी बड़ी योजना का हिस्सा हो।’ उन्होंने आगे कहा कि इस तरह के अपराध समुदायों में नफरत और तनाव पैदा कर सकते हैं।
जस्ट याॅर्कशायर के अंतरिम निदेशक नदीम मुर्तजा जो नस्लीय न्याय, मानवाधिकार और समानता को बढ़ावा देते हैं, उन्होंने कहना है, ‘घृणा के यह कृत्य चिंताजनक हैं।’ मस्जिद, गुरुद्वारे और अन्य धार्मिक स्थल लोगों के दिलों में आस्था के दरवाजे खोलते हैं। फिर भी लोगों के बीच नफरतें बढ़ती जा रही हैं, हालांकि पुलिस से समर्थन और आश्वासन मिलता रहता है।

You may also like