world

विनाशकारी भूकंप से पकिस्तान से लेकर हिन्दुस्तान तक दरक उठी धरती

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आए विनाशकारी  भूकंप ने भारी तबाही मचाई है।पाक अधिकृत कश्मीर के कई इलाकों में भूकंप के तेज झटके आए हैं, जिससे काफी नुकसान हुआ है। यह जलजला इतना भयानक था कि सड़कों पर तबाही की तस्वीरें नजर आ रही हैं। इतनी तेज जलजले से पूरा उत्तर भारत भी कांप उठा. पीओके के जाटलान इलाके में भूकंप का केंद्र बताया जा रहा है, जो कि मीरपुर के करीब है। पीओके और पाकिस्तान दोनों जगहों पर भूकंप से भारी तबाही मची है।  बताया जा रहा कि भूकंप से पाकिस्तान में 31 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 350 लोग घायल हैं।  वहीं पीओके में 5 लोगों की मौत और 50 लोगों के घायल होने की खबर है।

दिल्ली एनसीआर के अलावा चंडीगढ़ और जम्मू कश्मीर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप के बाद लोग अचानक दहशत में आ गए और कई जगहों पर लोग अपने घरों और ऑफिसों के अंदर से बाहर निकल गए।

उधर, जम्मू कश्मीर के जिन हिस्सों में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए वो इलाके हैं- राजौरी और पूंछ। लेकिन, सबसे ज्यादा नुकसान इस भूकंप के चलते पाकिस्तान में हुआ है।

पाकिस्तान की जमीन के अंदर हलचल हुई और उसका असर जमीन पर दिखाई दिया। लाहौर से करीब 137 किमी दूर और रावलपिंडी से 81 किमी दूर जाटलान में 5 .8  तीव्रता के भूकंप ने दस्तक दी और पूरी धरती हिल गई।भूकंप का केंद्र PoK का जाटलान इलाका बताया जा रहा है। यह इलाका जम्मू -कश्मीर से सटे होने के चलते जम्मू-कश्मीर में भूकंप का असर ज्यादा महसूस किया गया है।

पाकिस्तान में आए जलजले के बाद पाक अधिकृत कश्मीर का ज्यादातर हिस्सा तबाह हुआ है। लेकिन उसका असर भारत में भी दिखाई दिया।भूकंप के तेज झटकों से जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा हिल गया।

जानकारों का कहना है कि जिस इलाके में जलजले ने दस्तक दी वो आमतौर पर भूगर्भीय हलचल से मुक्त रहा है। अभी यह नहीं पता चल सका है कि भूकंप, धरती की सतह से कितने किमी नीचे आया था।

लेकिन जिस तरह से रिक्टर स्केल पर तीव्रता दर्ज की गई है उससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है इस जलजले ने पृथ्वी की सतह से कम दूरी पर दस्तक दिया होगा।  इस जलजले से पाकिस्तान में बड़े पैमाने पर तबाही हुई है।

इससे पहले 2005 में भी जम्मू-कश्मीर में ऐसा ही तेज भूकंप आया था. उसमें कश्मीर में काफी नुकसान हुआ था. उस समय 7.6 स्केल का भूकंप आया था, जिसमें काफी लोगों की मौत हुई थी।

You may also like