[gtranslate]
world

ईरान के इमाम : महिलाओं के हिजाब नहीं पहनने से बढ़ा जल संकट

ईरान में एक ओर जहां पिछले छह महीनों से भी ज्यादा समय से हिजाब विवाद जारी है वहीं बारिश नहीं होने कारण गंभीर सूखा और भारी जल संकट पैदा हो गया है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि आने वाले कुछ वर्षों में पानी और अनाज की कीमते बढ़ेंगी। जिसका सीधा असर आम लोगों पर पड़ेगा । इस भारी संकट में इस समस्या का हल निकलने के बजाए सरकार इसका जिम्मेदार महिलाओं को ठहरा रही है। दरअसल ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्लाह अली खामेनेई के सहयोगी और ईरान के इमाम मोहम्मद मेहदी हुसैनी हामेदानी ने अजीबो – गरीब बयान दे कहा कि महिलाएं हिजाब पहनने के अनिवार्य नियम का उल्लंघन कर रही हैं जिससे देश में सूखा और जल संकट पैदा हो रहा है। उनके कहने अनुसार किसी शॉपिंग मॉल, संस्थान या फॉर्मेसी जाकर यह कल्पना करना असंभव हो जाता है कि हम एक इस्लामिक मुल्क में जी रहे हैं। प्रसाशन को यह सुनिश्चित करना चाहिए की बिना हिजाब के महिलाएं सार्वजनिक स्थलों पर न जाए। इसके अलावा प्रसाशन को दुकानदारों और शॉपिंग मॉल को चेतावनी दी जाए कि बिना हिजाब के किसी महिला को घुसने नहीं दिया जाए।

 

यह भी पढ़ें : UN महिला आयोग से बाहर हुआ ईरान

 

गौरतलब है कि ईरान कई संकटों से जूझ रहा है। 270 से ज्यादा शहर ऐसे हैं जहां पानी की किल्लत हो रही है। कई बांधों का जलस्तर काफी गिर गया है। ईरान वॉटर कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी द्वारा एक चेतावनी भी जारी की गई थी, जिसमें कहा गया था कि आगामी सालों में पानी की कीमतें बढ़ जाएंगी। ईरान बीते पचास सालों में सबसे खराब सूखे का सामना कर रहा है, जिससे कृषि सहित आम जनजीवन प्रभावित हो रहा है। ईरान साल 2021 से सूखे का सामना कर रहा है। जिससे पीने , स्वछता ,कृषि ,पशु ,खेती और बिजली के लिए सुरक्षित और पर्याप्त पानी की आपूर्ति की कमी से लोगों के स्वास्थ्य और आय पर विनाशकारी और तेजी से अस्थिर दबाव पड़ रहा है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD