[gtranslate]
world

कोविड-19 के बीच सऊदी अरब और भारत के संबंधों में आयी दरार

कोविड-19 के चलते सऊदी अरब ने हाल ही में भारत समेत 20 देशों से लोगों के आने पर प्रतिबन्ध लगाया है। इस प्रतिबन्ध में भारत -पाकिस्तान समेत  म‍िस्र, यूएई, लेबनान, जर्मनी, ब्रिटेन, आयरलैंड, इटली, अमेरिका आदि शामिल हैं। सऊदी अरब की सरकार ने इन देशों से लोगों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया। सऊदी अरब ने कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए यह प्रतिबंध लगाया है।

हालांकि इस यात्रा प्रतिबंध में राजनयिकों, सऊदी नागरिकों, डॉक्‍टरों और उनके परिवार को छूट दी गई है। सऊदी अरब के इस प्रतिबंध से कई भारतीय प्रभावित हो सकते हैं जो सऊदी अरब में काम करते हैं।

सऊदी अरब के इस प्रतिबन्ध से सबसे अधिक प्रभावित होने वाला देश है भारत

हालाँकि सऊदी सरकार ने कहा क‍ि,”यह प्रतिबंध अल्‍पकालिक है। सऊदी अरब सरकार यह सुनिश्चित करने का प्रयास करेगी कि इन देशों के साथ सप्‍लाइ चेन बनी रहे और जहाजों का आना-जाना जारी रहे।”सऊदी सरकार ने कहा कि देश के नागरिकों, राजनयिकों और स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों तथा उनके परिवार को इन देशों से आने की अनुमति होगी लेकिन उन्‍हें स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के बचाव के नियमों का पालन करना होगा।

सऊदी अरब ने यह यात्रा प्रतिबंध ऐसे समय पर लगाए हैं जब सऊदी अरब के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री तौफिक अल-रबियाह ने बीते सप्ताह चेतावनी दी कि अगर लोगों ने स्‍वास्‍थ्‍य प्रतिबंधों का पालन नहीं किया तो नए कोरोना वायरस प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं।

भारत और पाकिस्‍तान से लाखों की तादाद में लोग सऊदी अरब में काम करते हैं। इस ताजा प्रतिबंध का असर उन पर पड़ सकता है। यही कारण है कि सऊदी अरब के इस प्रतिबंध की वजह से भारत के कई लोगों में गुस्सा है और वे सोशल मीडिया के माध्यम से केंद्र सरकार से यह अपील कर रहे हैं कि वो सऊदी अरब को दिए जाने वाली कोरोना वैक्सीन की योजना को अभी रोक दे। हालाँकि आधिकारित तौर पर दोनों देशों ने इस मामले पर कोई घोषणा नहीं की है लेकिन दोनों देशों के लोगों के बीच इस बात को लेकर बहस जारी है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD