[gtranslate]
world

फ्रांस के राष्ट्रपति को कोरोना संक्रमण, जर्मनी और इटली सहित यूरोपीय देशों में स्थिति चिंताजनक

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। वे क्वारंटाइन हो गए हैं। वे सात दिनों तक सेल्फ आईसोलेशन में रहेंगे। राष्ट्रपति कार्यालय ने इसकी पुष्टि की है। राष्ट्रपति कार्यालय के एक बयान में कहा गया है कि आप सभी उनके लिए दुआ करें। अच्छी बात तो यह है कि राष्ट्रपति के स्वास्थ्य में सुधार के संकेत हैं और वह आईसोलेशन में काम करना जारी रखेंगे।

फ्रांसीसी सरकार के अनुसार, मैक्रोन का परीक्षण कोरोना के लिए किया गया था जब उनमें कोरोना के हल्के लक्षण दिखाई दिए थे। परीक्षण के परिणाम सामने आने के बाद यह स्पष्ट हो गया कि मैक्रॉन संक्रमित हैं। फ्रांस में नियमों के अनुसार, कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद मैक्रोन अब सात दिनों तक सेल्फ आईसोलेशन में रहेंगे। वे इस अवधि के दौरान अपना काम जारी रखेंगे। मैक्रॉन इस दौरान सभी वीडियो कॉल बैठकों और चर्चा सत्रों में भी मौजूद रहेंगे। मैक्रॉन के संपर्क में आए देश के प्रधानमंत्री जीन कोस्टेक्स का कोरोना टेस्ट नैगाटिव आया है।

अब तक 1.6 मिलियन से अधिक लोगों की मौत

दुनिया भर में कोरोना रोगियों की संख्या 74.8 मिलियन तक पहुंच गई है। जिसमें से 5 करोड़ 26 लाख मरीज इस बीमारी से ठीक हुए हैं। इस बीमारी से दुनिया भर में 1.6 मिलियन से अधिक लोग मारे गए हैं। मैक्रोन कोरोना से संक्रमित होने वाले दुनिया के पहले प्रमुख नेता नहीं हैं, ब्रिटिश प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी कोरोना से संक्रमित हुए हैं। ट्रम्प भी कुछ दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती थे।

जर्मनी की स्थिति पहले से ही चिंताजनक

जर्मन सरकार और उसके मुख्य स्वास्थ्य प्रहरी से 27 दिसंबर को कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिलने की उम्मीद है। मठों में रहने वाले बुजुर्गो को जर्मनी में सबसे पहले टीका लगाया जायेगा। टीका बुजुर्गों के बाद ही दूसरों को दिया जाएगा। जर्मनी में जर्मन बायोएंटेक और फाइजर के टीके मंजूर होने की उम्मीद है। लेकिन टीकाकरण की शुरुआत से पहले, तस्वीर यह है कि जर्मनी में स्थिति बिगड़ रही है। यही कारण है कि जर्मनी ने सभी दुकानों, स्कूलों और गैर-जरूरी सेवाओं को बंद करने का फैसला किया है। जर्मनी में, पिछले 11 दिनों में कोरोना से औसतन 400 लोग मारे गए हैं।

इटली और स्पेन में भी चिंताएँ बढ़ीं

कोरोना के रोगियों की बढ़ती मौत के कारण बीते बुधवार से जर्मनी में सख्त तालाबंदी लागू है। जर्मनी में कोरोना से अब तक 23,427 लोग मारे गए हैं। कोरोना के मरीजों के बढ़ने के बाद अक्टूबर में जर्मनी में कुछ प्रतिबन्ध लागू किए गए थे। लेकिन अब जब रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है, तो लॉकडाउन के नियमों को कड़ा कर दिया गया है। जर्मनी के साथ-साथ इटली और स्पेन में कोरोना रोगियों की संख्या फिर से बढ़ने लगी है।

19 जनवरी तक नीदरलैंड में लॉकडाउन

नीदरलैंड में पांच सप्ताह के लॉकडाउन की भी घोषणा की गई है। प्रधान मंत्री मार्क रूटे ने घोषणा करते हुए कहा है कि लॉकडाउन के अलावा कोई विकल्प नहीं है क्योंकि वर्तमान में समस्या का कोई प्रभावी समाधान नहीं है। नीदरलैंड्स में दुकानें, स्कूल, जिम और कई सार्वजनिक स्थान अगले पांच सप्ताह तक बंद रहेंगे। सरकार ने यह भी स्पष्ट किया है कि 19 जनवरी तक किसी भी रियायत की उम्मीद नहीं की जानी चाहिए। हमें यह कठिन निर्णय लेना होगा क्योंकि हम नहीं चाहते कि भविष्य में स्थिति हाथ से निकल जाए। दो घंटों के लिए अधिकतम दो मेहमानों को किसी के घर जाने की अनुमति है। इन अतिथियों के बारे में स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों को पहले से सूचित करना भी अनिवार्य कर दिया गया है। डच सरकार को उम्मीद है कि क्रिसमस के मौसम में 24 से 25 दिसंबर तक कुछ रियायतें दी जाएंगी।

सऊदी अरब ने टीकाकरण की शुरुआत की

सऊदी अरब ने 17 दिसंबर, गुरुवार से टीकाकरण शुरू कर दिया है। पहला टीका देश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. तौफीक अल-रबीह को लगाया गया। सऊदी के स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार से देश में टीकाकरण अभियान शुरू किया है। अब तक सऊदी अरब में 360,000 से अधिक कोरोना रोगी पाए गए हैं। देश में 6,000 से अधिक लोग कोरोना के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं। तौफीक ने कहा, “टीकाकरण एक बड़े संकट की समाप्ति की शुरुआत है,” अब तक अमरीका, कनाडा, ब्रिटेन, बहरीन, रूस में टीकाकरण शुरू हो चुका है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD