world

भारत के दबाव में चीन वापस लेगा वीटो

आखिरकार जिस फैसले का इंतजार हर हिंदुस्तानी काफी लंबे समय से कर रहा था, उसके होने की संभावनाएं बढ़ चुकी हैं।पुलवामा आतंकी हमले के गुनाहगार जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को आज संयुक्त राष्ट्र ग्लोबल आतंकी घोषित कर सकता है। भारत पिछले लंबे समय से इस कोशिश में जुटा हुआ था, लेकिन चीन अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर टांग अड़ा रहा था। अब चीन भी इस पर राजी हो गया है और अपना वीटो पावर हटाने को तैयार है।

चीन ने कहा है कि वह जैश – ए मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्चिक आतंकी घोषित करने का समर्थन करता है। हलाकि वह यह चाहता है कि संयुक्त रार्ष्ट की 1267 समिति के दायरे में यह मामला राजनीतिक विचार -विमर्श से हल किया जाय। इस मसले पर आज संयुक्त रार्ष्ट में अहम बैठक होने वाली है। चीन ने कहा है ,हम समझते हैं कि इस पर सभी पक्ष एकमत हैं कि इस मसले का हल बातचीत के जरिए निकाला जाय। अभी 1267 समिति में इस पर विचार जारी है। इसमें सकारात्मक प्रगति हुई है हम सभी पक्षों की साझा कोशिशों पर विश्वास करते हैं। .अभी 1267 समिति में इस पर विचार जारी है। इसमें सकारात्मक प्रगति हुई है ,हम सभी पक्षों की साझा कोशिशों पर विश्वास करते हैं।

इससे पहले चीन ने चार बार इस मामले में वीटो का इस्तेमाल कर अड़ंगा लगाया लेकिन इस बार कुछ मीडिया रिपोर्टो के मुताबिक अब चीन ने अपना रुख बदल लिया है।
इस मामले में 13 मार्च को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में विचार किया गया था। लेकिन तब चीन ने तकनीकि आधार पर इस प्रस्ताव का विरोध किया था। प्रस्तावकों में अमेरिका ,ब्रिटेन और फ़्रांस भी शामिल थे।

अमेरिका और बांकी देशों ने साफ़ कर दिया है कि मसूद मामले पर अब ज्यादा इंतजार नहीं किया जा सकता। अगर मसूद को वैश्चिक आतंकी किया गया तो दुनियांभर में जैश के तमाम वित्तीय लेनदेन पर रोक लग जाएगी और उसके अकाउंट बंद कर दिए जाएंगे। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान हाल ही में चीन के डोरे पर थे। इस दौरान उनकी मुलाक़ात चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से हुई थी चीन ने तभी इमरान खान को अपने फैसले की जानकारी दे दी थी। पुलवामा आतंकी हमले के बाद चीन पर दुनिया के कई देशों का दबाव था। मसूद अजहर पर बैन का फैसला वही कमेटी करेगी जिसने अल -कायदा और आईएसआईएस पर प्रतिबंध लगाए थे।

You may also like