[gtranslate]
world

ताइवान को WHO से बाहर रखने पर चीन और अमेरिका के बीच टकराव 

ताइवान को WHO से बाहर रखने पर चीन और अमेरिका के बीच टकराव 

कोरोना वायरस ने 4 मिलियन से अधिक लोगों को संक्रमित किया है। दुनिया भर में 286,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। लेकिन इससे एक देश इस महामारी से पहले से ज्यादा मजबूत हुआ है। वह है ताइवान। यहां पर इसका प्रसार सीमित है। यहां सरकार ने बीमार लोगों का पता लगाने और क्वारेनटीन करने के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाया। यह द्वीप, जो मुख्य भूमि चीन से लगभग 100 मील (161 किलोमीटर) पर है, ने कोविद-19 के केवल 440 मामलों और केवल सात मौतों की सूचना दी है।

ऑस्ट्रेलिया एक समान जनसंख्या और अच्छी तरह से विकसित स्वास्थ्य प्रणाली वाला देश है। यहांं 6,948 मामले और 97 मौतें हुई हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका के नेतृत्व में देशों की एक बड़ी संख्या ताइवान के लिए बुला रही है कि उन्हें या तो डब्ल्यूएचओ में अनुमति दी जाए या सुपरवाइज़र का दर्जा दिया जाए। अगले हफ्ते होने वाली विश्व स्वास्थ्य सभा जो डब्ल्यूएचओ की वार्षिक नीति बना रही है जो वायरस के प्रकोप के कारण लगभग इकट्ठा हो रही है। पर कहीं ये झगड़ा के चलते अगले सप्ताह होने वाली बैठक खराब होने की संभावना है।

ताइवान आधिकारिक तौर पर चीन में जब वैश्विक स्वास्थ्य संस्था 1948 में बनाया गया था, तब डब्ल्यूएचओ का एक संस्थापक सदस्य था। लेकिन संयुक्त राष्ट्र में पीपुल्स रिपब्लिक में चीन सीट हारने के एक साल बाद यानी 1972 में इसे निष्कासित कर दिया गया था। राष्ट्रवादियों द्वारा कम्युनिस्टों के लिए एक नागरिक युद्ध हारने और प्रतिद्वंद्वी सरकार स्थापित करने के लिए ताइवान भाग जाने के बाद दोनों पक्षों ने 1949 से अलग-अलग शासन किया है।

बीजिंग ताइवान को अपना क्षेत्र मानता है और यदि आवश्यक हुआ तो एक दिन के लिए इसे जब्त करने की कसम खाई है। यह एक संप्रभु राष्ट्र के रूप में ताइवान की किसी भी अंतरराष्ट्रीय मान्यता में है और हाल के वर्षों में इस द्वीप पर आर्थिक, राजनयिक और सैन्य दबाव बढ़ गया है। 2009 और 2016 के बीच बीजिंग ने ताइवान को ‘चीनी ताइपे’ नाम के तहत एक सुपरवाइज़र के रूप में WHA में भाग लेने की अनुमति दी। उस समय, ताइपे और बीजिंग के बीच संबंध गर्म थे।

2016 में वर्तमान राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन के चुनाव के साथ चीजें ठंढी हो गईं। वह एक ऐसी पार्टी से हैं, जो ताइवान को एक वास्तविक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में देखती है और बीजिंग के विचार की सदस्यता नहीं लेती है कि यह “एक चीन” से संबंधित है। ताइपे को अपनी कॉल में शामिल करने के लिए थोड़ा कूटनीतिक समर्थन मिला, लेकिन कोरोनावायरस महामारी ने नाटकीय रूप से बदल दिया है। चीन ने प्रकोप पर अपनी प्रारंभिक प्रतिक्रिया के लिए खुद को छानबीन के लिए पाया है और आरोपों ने अपनी सत्तावादी सरकार ने वैश्विक प्रसार को बदतर बना दिया है। इसके विपरीत, लोकतांत्रिक ताइवान को केवल सात मौतों और 433 संक्रमणों के साथ प्रकोप को संभालने के लिए एक मॉडल के रूप में प्रशंसा की गई है।

क्यों मायने रखता है ताइवान का बहिष्कार?

ताइवान और उसके समर्थकों का तर्क है कि दुनिया के स्वास्थ्य शरीर से 23 मिलियन ताइवानी को बाहर करना अनुचित है, खासकर इतने बड़े स्वास्थ्य संकट के दौरान। वे कहते हैं कि वैश्विक नेता और डॉक्टर वायरस का मुकाबला करने में द्वीप की विशेषज्ञता से सीख सकते हैं। अमेरिका के प्रशिक्षित महामारी विशेषज्ञ, ताइवान के उपराष्ट्रपति चेन चिएन-जेन ने गुरुवार को संवाददाताओं को बताया कि स्वास्थ्य नेटवर्क में किसी को भी अनाथ नहीं माना जाना चाहिए।

WHO राजनीति में बहुत अधिक महत्व रखता है और अपनी व्यावसायिकता और तटस्थता के बारे में भूल जाता है। WHO पर बीजिंग के प्रभाव के बारे में ताइवान के बहिष्करण ने भी सवाल उठाए हैं। इस हफ्ते ट्रम्प प्रशासन ने डब्ल्यूएचओ पर ‘सार्वजनिक स्वास्थ्य पर राजनीति’ का चयन करने का आरोप लगाते हुए चीन के प्रति अत्यधिक भेद भाव बरती।

WHO के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेबियस ने कहा है कि ताइवान की भागीदारी केवल प्रासंगिक सरकार की सहमति के साथ सदस्य राज्यों द्वारा तय की जा सकती है। आगे उन्होंने इस धारणा को खारिज कर दिया कि उनके कार्यकाल में बीजिंग के लिए किसी भी तरह का भेद भाव नहीं है। WHO के अधिकारियों का कहना है कि वे ताइवान के साथ नियमित संपर्क में हैं और ताइवान के अधिकारी अक्सर तकनीकी बैठकों में शामिल होते हैं।

ताइवान ने माना है कि उसे पूर्व में तत्कालीन महानिदेशक के ‘विवेक’ पर WHA में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया था। यह कहता है कि टेड्रोस का सार्वजनिक स्वास्थ्य दायित्व है कि वह द्वीप के बीजिंग को ब्लैक लिस्ट करने के लिए खड़ा हो। डब्ल्यूएचओ ने बाद में कहा कि सदस्य देशों के बीच आम सहमति होने पर टेड्रोस द्वारा आमंत्रण दिया जा सकता है, जो ऐसा नहीं करता है।

ताइवान के पास क्या अपना रास्ता  होगा?

इसकी अत्यधिक संभावना नहीं है। केवल 15 राष्ट्र अभी भी चीन के ऊपर ताइवान को पहचानते हैं। उनमें से अधिकांश लैटिन अमेरिका और प्रशांत क्षेत्र में आर्थिक खनन करते हैं। WHO के भीतर 194 देशों में से कुछ बीजिंग के गुस्से को भड़काना चाहते हैं। सदस्यता लेने के लिए ताइवान द्वारा 2007 की बोली को व्यापक रूप से हराया गया था। लेकिन ताइवान की वास्तविक राष्ट्र की स्थिति के किसी भी मान्यता को ताइपे की जीत और बीजिंग के लिए एक झटका के रूप में देखा जाता है।

पर यहां कोरोनोवायरस महामारी के दौरान ताइवान को महत्वपूर्ण सफलता मिली है। पिछले कुछ हफ्तों में ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जापान और न्यूजीलैंड सार्वजनिक रूप से ताइवान को WHA में सुपरवाइज़र का दर्जा दिए जाने के मांग में अमेरिका में शामिल हुए हैं। इसने बीजिंग को बदनाम कर दिया है। इसने पश्चिमी सरकारों पर प्रकोप से लड़ने में अपनी ही कमियों से ध्यान हटाने के लिए ताइवान को एक कील मुद्दे के रूप में इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है।

चीन और ताइवान की तकरार

उप-राष्ट्रपति चेन चिएन-जेन का कहना है कि ताइवान ने 31 दिसंबर को ही डब्ल्यूएचओ को चेतावनी दी थी कि यह वायरस इंसान से इंसान में फैलता है। चीन ने फ़ाइनेंशियल टाइम्स को बताया कि ताइवानी डॉक्टरों ने यह पता लगा लिया था कि वुहान में इस बीमारी का इलाज करने वाले डॉक्टर और दूसरे मेडिकल स्टाफ़ बीमार पड़ रहे हैं।

पर WHO ने इस जानकारी को गंभीरता से नहीं लिया और न ही वक़्त रहते इसकी पुष्टि की। चीन ताइवान को अपना ही एक प्रांत मानता है और सभी अंतरराष्ट्रीय संगठनों से अलग करने की मांग की है। वहीं ताइवान ख़ुद को एक अलग लोकतंत्र बताता है जहां साल 1949 में चीन से भागकर आए लोग बस गए थे।

You may also like