world

हांगकांग में प्रदर्शन के चलते अफरातफरी

हांगकांग में लंबे समय से चल रहा प्रदर्शन अब विकराल रूप ले रहा है। कल यानी 13 अगस्त को प्रदर्शन के दौरान हवाईअड्डे पर अफरातफरी मच गई, जिसके चलते सैकड़ों उड़ानें रद्द कर दी गईं। काबू से बाहर होते प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए पुलिस ने स्प्रे मिर्च का भी इस्तेमाल किया। इस पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि चीन अपने सैनिकों को हांगकांग की सीमा पर भेज रहा है।

किसी व्यक्ति को चीन को प्रत्यर्पित किए जाने संबंधी विधेयक को लेकर भड़के गुस्से के बाद हांगकांग के लाखों लोग सड़कों पर आकर प्रदर्शन कर रहे हैं। ब्रिटेन ने वर्ष 1997 में हांगकांग को चीन को सौंपा था। अब इतने वर्ष बाद चीन शासन के सामने  सबसे बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है। दुनिया के सबसे व्यस्त हवाईअड्डों में से एक हांगकांग हवाईअड्डे पर दो दिन से जारी प्रदर्शनों ने मुश्किल स्थिति खड़ी कर दी है।

जानकारी के मुताबिक कल मंगलवार रात दंगा रोधी पुलिस का एक छोटा सा समूह एक एंबुलेंस में ले जाए जा रहे एक व्यक्ति की सुरक्षा में तैनात था, तभी करीब दो दर्जन अधिकारियों नेदेखा  कि उनके पुलिस वाहन को सकड़ों पर मौजूद पदर्शनकारियों ने रोक दिया है।

इसके बाद, पुलिस अधिकारियों को रास्ता खाली कराने के लिए अपने वाहन से उतरने के लिए मजबूर होना पड़ा। उन्होंने प्रदर्शनकारियों पर मिर्च स्प्रे का इस्तेमाल किया और कम से कम दो लोगों को हिरासत में लिया। इससे पहले काली टी शर्ट पहने हजारों प्रदर्शनकारियों ने यात्रियों को हवाईअड्डा परिसर में प्रवेश करने से रोकने के लिए जगह-जगह अवरोधक लगा दिए। इस दौरान कुछ प्रदर्शनकारियों और यात्रियों के बीच हाथापाई भी हुई।

स्थानीय पुलिस के अनुसार सोमवार यानी 12 अगस्त  को लगभग पांच हजार लोगों की भीड़ हवाईअड्डा परिसर में घुस गई। उनका कहना था कि उन्होंने ऐसी रैलियों पर पुलिस की हिंसक कार्रवाई के जवाब में किया है। हवाईअड्डा अधिकारियों ने 12 अगस्त को इस कारण से सभी उड़ानों को रद्द कर दिया।

13 अगस्त की  सुबह हांगकांग की मुख्य कार्यकारी कैरी लाम मीडिया से बातचीत के दौरान भावुक हो गईं

और आगाह किया कि यदि बढ़ती हिंसा पर रोक नहीं लगती तो इसके भयंकर परिणाम होंगे। उन्होंने कहा कि हिंसा… क्या हांगकांग को ऐसे रास्ते पर ले जाएगी, जहां से लौटने का कोई मार्ग नहीं बचेगा। लाम को पत्रकारों की ओर से तीखे सवालों का सामना करना पड़ा और एक क्षण ऐसा आया जब उनकी आंखों से आंसू निकलते प्रतीत हुए। उन्होंने शांति की अपील की।

स्थिति के मद्देनजर 12 अगस्त को चीन में अधिकारियों ने हिंसक प्रदर्शनकारियों की निंदा की और कहा कि उन्होंने पुलिसकर्मियों पर पेट्रोल बम फेंके। अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों की तुलना आतंकवादियों से की। इस बीच सरकार संचालित मीडिया ने ऐसे वीडियो प्रदर्शित किए, जिनमें चीनी सेना और उसके बख्तरबंद वाहन हांगकांग की सीमा से लगे शेंझेन शहर में एकत्र होते दिख रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ पुलिस बल के प्रयोग पर 13 अगस्त  को चिंता जताई और निष्पक्ष जांच की मांग की। वहीं, अमेरिकी प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सभी पक्षों से हिंसा से बचने को कहा। भारत ने भी  हांगकांग जाने वाले अपने नागरिकों के लिए यात्रा परामर्श जारी किया है। हांगकांग में भारतीय वाणिज्य दूतावास ने कहा कि हांगकांग अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर 12 अगस्त को हुए विरोध प्रदर्शन की वजह से सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like