[gtranslate]
world

मस्क के पिंजरे में कैद हुई, ट्विटर की चिड़िया

विश्व ख्याति प्राप्त सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर को टेस्ला कंपनी ने 44 अरब डॉलर में खरीद लिया है। इस खरीद के बाद अब दुनियाभर में कयासबाजियों का दौर शुरू हो चला है कि ट्विटर की नीतियों में अब भारी बदलाव होगा जिसके असर को लेकर नाना प्रकार की आशंकाएं भी व्यक्त की जाने लगी हैं

कहा जाता है कि एलन मस्क बड़े ख्वाब देखते हैं। उनके इन ख्वाबों में शामिल है मंगल पर इंसानी बस्तियां बनाना। मीम क्रिप्टोकरेंसी डॉजक्वाइन के रास्ते वर्चुअल करेंसी की दुनिया में दखल देना और सबसे अहम नई सोशल मीडिया कंपनी बनाने का ख्वाब है। फिलहाल टेस्ला के बॉस ने अभी तक कोई सोशल मीडिया कंपनी तो नहीं खोली, लेकिन कुछ दिनों पहले वह ट्विटर के सबसे बड़े निवेशक बन गए थे। वह पहले ही नई सोशल मीडिया कंपनी खोलने की इच्छा जताते आए हैं, जिसके बाद उनके इस निवेश को लेकर कई तरह के कयास लगने लगे थे और एक मतलब तो यह भी निकाला गया था कि क्या वह ट्विटर को खरीदने वाले हैं? तो जवाब है हां, क्योंकि अब ये कयास सच्चाई में तब्दील हो गया है।

अब माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफार्म ट्विटर का स्वामित्व दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति के पास है। एलन मस्क ने ट्विटर को 44 अरब डॉलर (3 लाख 37 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा) में खरीदा लिया है। ट्विटर की चिड़िया अब एलन मस्क के पिंजरे में कैद हो गई है। लेकिन इस समझौते के बाद कंपनी के बोर्ड में बदलाव की अटकलों ने जोर पकड़ लिया है। गौरतलब है कि 16 साल पुराने ट्विटर पर करोड़ों लोग सक्रिय हैं जिनमें मनोरंजन जगत की मशहूर हस्तियों से लेकर राष्ट्राध्यक्ष, राजनेता, खिलाड़ी और आम लोग तक शामिल हैं। ऐसे में ट्विटर में कई बड़े बदलावों को लेकर राजनीतिक और मानवाधिकार कार्यकर्ता चिंतित हैं।

क्यों चिंतित हैं राजनीतिक और मानवाधिकार कार्यकर्ता?
मस्क ‘अभिव्यक्ति की पूर्ण आजादी’ के समर्थक माने जाते हैं और कई बार वह पोस्ट हुए कंटेंट पर ट्विटर द्वारा नियंत्रण रखने की आलोचना करते आए हैं। एक बार उन्होंने कहा था कि ट्विटर का अल्गोरिदम सार्वजनिक किया जाना चाहिए ताकि लोगों को भी जानकारी हो कि सामग्री को किस आधार पर प्राथमिकता दी जा रही है। साथ ही उन्होंने विज्ञापन देने वाली कंपनियों को बहुत अधिक ताकत देने पर भी आपत्ति जताई थी। मस्क के इसी खुलेपन और पुराने बयानों से राजनीतिक और मानवाधिकार कार्यकर्ता घबराए हुए हैं। वे सभी आशंकित हैं कि ट्विटर पर मस्क के नियंत्रण का मतलब है कि सामग्री पर नियंत्रण कम होगा और उन लोगों की भी ट्विटर पर वापसी हो सकेगी जिन्हें ट्विटर द्वारा नफरतभरी या हिंसक भाषा के इस्तेमाल आदि के कारण हटा दिया गया था। इनमें पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी शामिल हैं जिनके अकाउंट को ट्विटर ने भ्रामक सूचनाएं फैलाने के कारण अपने मंच से सस्पेंड कर दिया था। लेकिन वहीं दूसरी तरफ एक तबका एलन मस्क के पास ट्विटर जाने से खुश भी हैं और वो तबका है दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं का।

वैसे तो मस्क कई बदलावों के बारे में सार्वजनिक तौर पर बता चुके हैं लेकिन कुछ बदलावों पर विवाद होना तय माना जा रहा है। एक बदलाव ‘पोस्ट एडिट’ करने का भी बताया जा रहा है जिसमें कोई भी अपनी पोस्ट को एडिट कर पाएगा। ट्विटर में अब तक ऐसी कोई सुविधा नहीं है। इसके अलावा वह ‘स्पैम बॉट्स’ यानी ट्वीट करने वाले सॉफ्टवेयर पर नियंत्रण की बात भी कह चुके हैं।

ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल को लेकर
सोशल मीडिया पर चर्चा तेज मस्क के हाथों ट्विटर आने के बाद से कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर पराग अग्रवाल को लेकर सोशल मीडिया पर जमकर चर्चाएं हो रही है। कहा जा रहा है कि अब उनका भविष्य खतरे में है क्योंकि शायद मस्क उनके साथ कॉन्ट्रैक्ट आगे नहीं बढ़ाएंगे। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अगर ट्विटर के मौजूदा सीईओ पराग अग्रवाल को हटाया जाता है तो कंपनी को बड़ी रकम चुकानी पड़ेगी। लेकिन ऐसा होगा या नहीं इसको लेकर अभी संशय बरकरार है। हाल ही में ट्विटर के सीईओ बनाए गए पराग अग्रवाल ने कंपनी के बिकने के बाद अपने कर्मचारियों से कहा कि कंपनी के भविष्य के बारे में वह अभी कुछ नहीं कहना चाहेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि जल्द ही एलन से बात करने का मौका मिलेगा। कंपनी ने कर्मचारियों को बताया है कि मस्क जल्द ही उनसे मुखातिब होंगे।

ट्विटर और मस्क
ट्विटर से मस्क का नाता बड़ा पुराना है। वो अपने चाहने वालों से सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिए बातचीत करते आए हैं या उन तक अपनी बात पहुंचाते आए हैं। इस प्लेटफार्म पर उनके 8 करोड़ से अधिक फॉलोअर्स हैं। ट्विटर पर उन्होंने एक पोल भी किया था। जिसमें उन्होंने अपने फॉलोअर्स से पूछा था कि क्या उन्हें टेस्ला में 10 फीसदी हिस्सेदारी बेच देनी चाहिए? तब ज्यादातर फॉलोअर्स ने इसका ‘हां’ में जवाब दिया था। इसका अर्थ यही है कि ट्विटर में मस्क बदलाव ला सकते हैं।

मुझे ट्विटर पसंद हैः एलन मस्क
कुछ समय पहले तक ट्विटर और एलन मस्क का रिश्ता वैसा ही लगता था जैसा एकतरफा प्यार में किसी प्रेमी का होता है। क्योंकि ट्विटर को खरीदने की चाहत वो वर्ष 2017 से रखते आए हैं। इसका अंदाजा हम मस्क के पांच साल पुराने एक ट्वीट से लगा सकते हैं जो अब तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने कहा था, ‘मुझे ट्विटर बहुत पसंद है, इसकी कीमत क्या होगी?’ और अब 44 अरब डॉलर में ट्विटर की चिड़िया उनके पिंजरे में है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD