[gtranslate]
world

न्यूजीलैंड में सिगरेट के अंत की शुरुआत

न्यूजीलैंड में 2008 के बाद पैदा हुए लोग अब कभी भी सिगरेट नहीं खरीद पाएंगे और न ही धूम्रपान कर पाएंगे। न्यूजीलैंड द्वारा लागू नए कानून के अनुसार 2024 से न्यूजीलैंड धीरे-धीरे सिगरेट मुक्त देश बन जाएगा और 2027 से देश में सिगरेट या तंबाकू उत्पादों की बिक्री बंद कर दी जाएगी।

देश की संसद में तम्बाकू-सिगरेट को बैन करने वाला कानून पास हो गया है। इसके तहत ऐसे लोग जिनका जन्म 2008 के बाद हुआ है, वो किसी भी तरह के स्मोकिंग प्रोडक्ट्स नहीं खरीद पाएंगे। इससे न्यूजीलैंड की अर्थव्यवस्था को 26 हजार 4 सौ करोड़ रुपए का फायदा होने का अनुमान है। न्यूजीलैंड सरकार देश को सिगरेट-तम्बाकू से मुक्त करना चाहती है। इसलिए कानून पर पहले से ही चर्चा चल रही थी और अब अंततः इसे कानून की शक्ल दे दी गई है।

संसद में इस बिल को पेश करते हुए न्यूजीलैंड की स्वास्थ्य मंत्री आयशा वेर्राल ने इसे ‘स्मोक फ्री फ्यूचर’ की ओर एक सराहनीय कदम बताया। साथ ही उन्होंने कहा सिगरेट पर बैन के बाद लोग लंबी और अच्छी जिंदगी जी पाएंगे। लोग स्मोकिंग से होने वाली बीमारियां से बचेंगे।

इस कानून के बाद अब न्यूजीलैंड धूम्रपान विरोधी कानून लाने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है। इस कानून का एकमात्र मकसद तंबाकू और उससे जुड़े उत्पादों पर प्रतिबंध लगाकर लोगों को इससे दूर करना है। हालांकि न्यूजीलैंड के लोग सबसे कम स्मोकिंग करते हैं। सरकारी डाटा के मुताबिक यहां रोज केवल 8 फीसदी लोग ही रोज स्मोकिंग करते हैं।

देश की केवल 600 दुकानों पर बिक सकेंगी सिगरेट

न्यूजीलैंड में 2024 से चरणों में सिगरेट पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक देश में 15 साल से ऊपर के सभी युवा सिगरेट पीते हैं। युवाओं और भावी युवाओं को सिगरेट से दूर रखने के लिए 2022 के अंत में एक कानून बनाया जा रहा है। इस कानून के तहत देशभर में केवल 600 दुकानों पर ही सिगरेट बेचने की अनुमति होगी। गौरतलब है कि न्यूजीलैंड में धूम्रपान से हर साल 5 हजार लोगों की मौत होती है और 18 साल से कम उम्र के हर 5 में से 4 बच्चे धूम्रपान करते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, तंबाकू उद्योग दुनिया के सबसे बड़े प्रदूषकों में से एक है, जिसने दुनिया भर में कचरे के पहाड़ छोड़े हैं और ग्लोबल वार्मिंग में भी योगदान दे रहा है।

संगठन ने उद्योग पर पेड़ों की व्यापक कटाई, खाद्य उत्पादन के लिए आवश्यक पानी और भूमि का उपयोग करने, प्लास्टिक और रासायनिक कचरे को बाहर निकालने और लाखों टन कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जित करने का आरोप लगाया।

60 करोड़ पेड़ों की कटाई

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर जारी अपनी रिपोर्ट में संगठन ने मांग की थी कि तंबाकू उद्योग को जिम्मेदार ठहराया जाए और सफाई का खर्च वहन करने को कहा जाए। “तंबाकू हमारे घर में जहर फैलाता है” शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में तंबाकू बनाने की पूरी प्रक्रिया के प्रभाव को देखा गया है। इसमें तंबाकू के पौधों की खेती, तंबाकू उत्पादों का उत्पादन, खपत और अपशिष्ट शामिल हैं।

स्वास्थ्य पर तंबाकू के प्रभाव पर दशकों से काम किया जा रहा है, लेकिन इस रिपोर्ट में पर्यावरण पर इसके प्रभाव पर ध्यान केंद्रित किया गया है। आज भी धूम्रपान हर साल दुनिया भर में 8 मिलियन से अधिक लोगों की मौत का कारण है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इंडस्ट्री की वजह से हर साल करीब 60 करोड़ पेड़ काटे जाते हैं। इसके अलावा तंबाकू की खेती और उत्पादन के लिए हर साल 200,000 हेक्टेयर जमीन और 22 अरब टन पानी की जरूरत होती है। उद्योग लगभग 84 मिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड भी उत्सर्जित करता है।

यह भी पढ़ें : स्मोकिंग करने वाले से अधिक पास रहने वालों को कैंसर का खतरा, अब तक 25 लाख मौत

इससे लगभग एक चौथाई तंबाकू किसानों को ग्रीन टोबैको सिकनेस नामक बीमारी भी हो जाती है, जिसमें त्वचा के माध्यम से निकोटिन के अवशोषित होने से विष शरीर में फैल जाता है। क्रेच ने कहा कि जो किसान दिन भर तंबाकू के साथ काम करते हैं, वे एक दिन में 50 सिगरेट के बराबर निकोटीन का सेवन करते हैं।

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि ज्यादातर तंबाकू गरीब देशों में उगाया जाता है, जहां पानी और कृषि भूमि दुर्लभ है, और जहां ऐसी फसलें अक्सर बहुत जरूरी खाद्य उत्पादन के स्थान पर उगाई जाती हैं। सिगरेट फिल्टर में माइक्रोप्लास्टिक होते हैं, जो दुनिया भर के महासागरों की गहराई में पाए गए हैं।

दुनिया में बढ़ रही धूम्रपान करने वालों की संख्या- चीन, भारत सबसे आगे

लेसेन्ट पत्रिका के एक सर्वेक्षण में भी पाया गया है कि इन अभियानों का बहुत कम उपयोग होता है। 2019 में धूम्रपान के कारण 80 लाख लोगों की मौत होने का अनुमान है। हालांकि नए शोध के मुताबिक धूम्रपान करने वाले युवाओं का अनुपात तेजी से बढ़ रहा है।

1990 के बाद से अगले नौ वर्षों में, धूम्रपान करने वालों की संख्या में 1.50 मिलियन की वृद्धि हुई है। धूम्रपान करने वालों की संख्या अब 1.1 अरब हो गई है, जिसमें 89 प्रतिशत नए धूम्रपान करने वालों की आयु 25 वर्ष है। हालांकि पिछले तीन दशकों में वास्तविक धूम्रपान में गिरावट आई है, 20 देशों में पुरुष धूम्रपान करने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है, जबकि 12 देशों में धूम्रपान करने वाली महिलाओं की संख्या में वृद्धि हुई है।

दुनिया के केवल 2/3 धूम्रपान का नेतृत्व चीन और भारत करते हैं, इसके बाद इंडोनेशिया, अमेरिका, रूस, बांग्लादेश, जापान, तुर्की, वियतनाम और फिलीपींस हैं। चीन में हर तीन लोगों पर एक धूम्रपान करने वाला है। एक अध्ययन के मुताबिक  धूम्रपान से हृदय रोग से 1.7 मिलियन, फुफ्फुसीय रोग से 1.6 मिलियन, श्वसन और फेफड़ों के कैंसर से 1.3 मिलियन और स्ट्रोक से 1 मिलियन लोगों की मृत्यु हुई है।

यह भी पढ़ें : ये है दस अदाकारा जो सिग्रेट की दिवानी है

You may also like

MERA DDDD DDD DD