world

बांग्लादेश : पाकिस्तान परस्त ताकतों की देश को अस्थिर करने की साजिशें कभी कामयाब नहीं होंगी

अपनी पार्टी अवामी लीग के 49वें विजय दिवस के एक कार्यक्रम में बांग्लादेशी प्रधानमंत्री शेख हसीना द्वारा कड़ी चेतावनी देते हुए कहा गया कि पाकिस्तान परस्त ताकतें उनके देश में जो गड़बड़ी फैलाने की कोशिशें कर रही हैं, उन्हें कामयाब नहीं होने दिया जायेगा साथ ही हसीना द्वारा यह भी कहा गया कि पाकिस्तान और उसके सहयोगी बांग्लादेश को उसकी कड़े संघर्ष से प्राप्त हुई आज़ादी को अस्थिर करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के मंसूबे कभी पूरे नहीं हो पाएंगे। 

शेख हसीना द्वारा कहा गया कि बांग्लादेश की आजादी में सैकड़ों लोगों ने अपनी जान की कुर्बानी दी है। बंगबंधु (शेख मुजीबुर्रहमान) की एक आवाज पर बंगाली जनता आजादी की लड़ाई में कूद पड़े और आखिरी सांस तक इसके लिए संघर्ष किया। ऐसे में उनका बलिदान व्यर्थ नहीं होने दिया जाएगा। हमने पाकिस्तान से लड़कर आजादी हासिल की है। हमेशा से हमारा एक ही लक्ष्य था कि हम आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक तौर पर उनसे आगे रहें। हम आज उनसे बेहतर स्थिति में हैं, हमें इस कामयाबी को बरकरार रखना होगा।
1971 के पहले बांग्लादेश, पाकिस्तान का एक हिस्सा था, जिसे ‘पूर्वी पाकिस्तान’ कहा जाता था। पाकिस्तानी सेना के अत्याचार के विरोध में तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान के लोगों ने मुक्तिवाहिनी का गठन किया। भारत ने भी उन्हें समर्थन भी किया है।
इसी को लेकर भारत-पाकिस्तान के बीच दिसंबर 1971 में युद्ध हुआ। 13 दिन के भीतर भारत ने पाकिस्तान को मात दी और उसके 93 हजार सैनिकों को बंदी बनाया। इससे दुनिया के फलक पर पूर्वी पाकिस्तान नामक देश का उदय हुआ था।

You may also like