world

हांगकांग में भारतीय खिलाड़ियों के बाहर निकलने पर लगी रोक

हांगकांग में हिंसक प्रदर्शनों के बीच वर्ल्ड टूर 500 का आयोजन किया गया है। लेकिन यहां पहुंचे खिलाड़ी न तो कहीं बाहर घूम सकते हैं और न मॉल में जा सकते हैं। इसका कारण है चीन विरोधी प्रदर्शन ,जिसके चलते हालात बुरी हद तक खराब हो चुके हैं। यहां पहुंचे भारतीय बेडमेंटन खिलाड़ियों को भी बाकायदा कोलून के कॉलेसियम स्टेडियम में दिशा-निर्देशों की सूची सौंपी गई है।भारतीय खिलाड़ियों को मिले दिशा निर्देशों के मुताबिक वे रात को स्टेडियम से बाहर कदम नहीं रख सकते हैं।
वहीं यहां के छात्र प्रदर्शनकारी तीर-कमान लेकर मैदान में उतर चुके हैं। इस स्वायत्तशासी देश में हालात कितने बिगड़ चुके हैं इसकी जानकारी भारतीय खिलाड़ी चिराग शेट्टी ने एक समाचार पत्र को दी।

उन्होंने कहा, हम जैसे ही यहां उतरे हमें दिशा-निर्देशों की शीटें सौंपी गईं। इसमें आयोजकों ने बताया कि हमें जितना हो सके  अंदर ही रहना है। खिलाड़ी जिस होटल में ठहरे हैं वहां आसपास बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। इसलिए आयोजकों ने उन्हें सावधानी बरतने को कहा है।होटल के सामने स्टेडियम है लेकिन खिलाड़ियों से पैदल जाने के बजाय बस में जाने को कहा गया है। उधर, चीनी यूनिवर्सिटी में छात्रों ने पूरी रात पुलिस से मुकाबला किया, मानव श्रंखला बनाकर प्रदर्शन किया।

हांगकांग की सीईओ व चीन समर्थक नेता कैरी लेम ने 15 नवंबर को अपनी न्याय मंत्री पर लंदन में हुए ‘बर्बरतापूर्ण हमले’ की निंदा की। हांगकांग की न्याय मंत्री टेरेसा चेंग लंदन में लोकतंत्र समर्थकों की भीड़ से घिरी रहने के दौरान गिर गई थीं। उन्हें दर्जन भर नकाबपोश प्रदर्शनकारियों ने 14 नवंबर देर रात उस वक्त घेरा था जब वे यहां एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए जा रही थीं।
प्रदर्शनकारियों ने उन्हें ‘कातिल’ बताते हुए उन पर टॉर्च की रोशनी डाली और हांगकांग के लोकतंत्र समर्थक आंदोलन के नारे लगाए। इस दौरान वह फर्श गिर गईं हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि उन्हें प्रदर्शनकारियों ने धक्का दिया था या नहीं।

 

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए दिए गए आदेश की अवहेलना करते हुए हजारों लोकतंत्र समर्थकों द्वारा 15 नवंबर ,शुक्रवार को पांचवें दिन भी सड़कों पर रैलियां निकाली गई। इसके बाद प्रशासन ने औपचारिक तौर पर कई सबवे और रेलवे स्टेशन और मेट्रो ट्रेनों को बंद करने की घोषणा की है। प्रदर्शनकारियों ने कई रेल मार्गों को बाधित कर रेलों को भी क्षति पहुंचाई।

You may also like