[gtranslate]
world

एक दशक में 73% तक बढ़ जाएगी हथियारों की होड़

पिछले दो साल से पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है। कोरोना महामारी ने कई देशों की अर्थव्यवस्थाओं को अपंग कर दिया है, फिर भी हथियारों की दौड़ जारी है।

जीडीपी का एक बड़ा हिस्सा दुनिया के सभी देशों द्वारा अपनी सुरक्षा पर खर्च किया जाता है। विशेष रूप से युद्ध के खतरे का सामना कर रहे देश सुरक्षा पर अधिक खर्च करते हैं। अभी पूर्वी यूरोप में यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद युद्ध का खतरा बढ़ गया है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक अचानक आई इस तेजी से 10 साल के भीतर परमाणु मिसाइलों और बमों का बाजार करीब 73 फीसदी बढ़कर 126 अरब डॉलर के पार पहुंच जाएगा। न्यूक्लियर मार्केट पोर्टलैंड स्थित रिसर्च कंपनी एलाइड मार्केट रिसर्च की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में परमाणु मिसाइलों और बमों के बाजार का आकार करीब 73 अरब डॉलर था। साल 2020 में कोविड-19 की वजह से दुनिया भर में रक्षा बजट को कम कर दिया गया था। हालांकि, जब से रूस ने यूक्रेन पर हमला किया है, कई देशों ने अब रक्षा पर अधिक जीडीपी खर्च करना शुरू कर दिया है। इससे परमाणु मिसाइलों और बमों का बाजार अगले 10 वर्षों में 72.6 प्रतिशत तक बढ़ सकता है।

भारत सहित इन देशों की मांग रिपोर्ट के अनुसार, भू-राजनीतिक संघर्ष और बढ़े हुए सैन्य बजट के कारण परमाणु मिसाइलों और बमों पर खर्च 2030 तक सालाना 5.4 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है। रिपोर्ट के अनुसार, 2020 में उत्तरी अमेरिका का रक्षा बाजार 50 फीसदी से अधिक था। हालांकि, अब जो विकास होगा वह एशिया-प्रशांत क्षेत्र से आएगा, क्योंकि भारत, पाकिस्तान और चीन जैसे देश अपने परमाणु शस्त्रागार में तेजी से वृद्धि करेंगे।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आने वाले समय में परमाणु मिसाइलों और बमों का बाजार छोटे परमाणु हथियारों को बढ़ाएगा। ऐसे हथियारों को विमान या सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइलों में आसानी से लगाया जा सकता है। इससे उनकी मांग काफी तेज हो जाएगी। साल 2020 तक परमाणु मिसाइलों और बमों के बाजार में पनडुब्बी से दागी जाने वाली बैलिस्टिक मिसाइलों (एसएलबीएम) की हिस्सेदारी करीब 25 फीसदी थी।

यह भी पढ़ें : साल 2021 रहा क्रिप्टो के लिए सबसे मजबूत वर्ष

You may also like

MERA DDDD DDD DD