[gtranslate]
world

अमेरिका में इस बार होगा दुनिया का सबसे खर्चीला चुनाव

कोरोना संकट के बीच अमेरिकी में होने वाले चुनाव में इस बार सभी रिकॉर्ड टूटने की संभावना है। यह शायद दुनिया का सबसे महंगा अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव होने वाला है। इस बार अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में 79,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च होंगे। यह राशि भारत के लोकसभा चुनावों की तुलना में 50 प्रतिशत से अधिक है। इस वजह से इसे दुनिया का सबसे महंगा चुनाव कहा जा रहा है।

OpenSecrets.org की एक रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव अब तक का सबसे महंगा चुनाव होगा, भले ही संघीय समिति अब इस पर खर्च नहीं करती है। फेडरल कमेटी ने अब तक 7.2 बिलियन खर्च किए हैं। यह आंकड़े 15 अक्टूबर तक के हैं और अभी भी बढ़ सकते हैं। जबकि उम्मीदवारों ने 1 जुलाई से 30 सितंबर तक खर्च के आंकड़े जारी किए हैं।

भारत के 2019 के लोकसभा चुनाव सबसे महंगा

भारतीय चुनावों की तुलना में सभी बातों पर गौर किया जाए, तो 2019 के लोकसभा चुनावों में भी लगभग 50,000 करोड़ रु खर्च हुए।  अगर हम पिछले अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की बात करें तो इसमें भी 45,000 करोड़ रु खर्च हुए।  इस हिसाब से भारत के  2019 के लोकसभा चुनाव को सबसे महंगा चुनाव कहा गया। इस बार अमेरिका के राष्ट्रपति ने चुनाव में खर्चों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी ने राष्ट्रपति चुनाव अभियानों पर पैसा खर्च करने के तरीके को बदल दिया है। 2016 के चुनाव की तुलना में उम्मीदवारों ने इस बार यात्रा और आयोजनों पर कम खर्च किया है। लेकिन इस बार मीडिया की लागत कई गुना बढ़ गई है। ट्रम्प और बिडेन बहुमुखी ऑनलाइन विज्ञापनों पर रिकॉर्ड-ब्रेकिंग खर्च कर रहे हैं। इन कंपनियों का इस्तेमाल नए मतदाताओं को आकर्षित करने और समर्थकों से अपील करने के लिए किया जाता है कि वे मतदान में मेल का उपयोग करें। 2020 के चुनाव में डेमोक्रेट्स रिपब्लिकन से आगे निकल गए हैं। डेमोक्रेट ने अब तक खर्च के 54 प्रतिशत का हिसाब दिया, लेकिन रिपब्लिकन ने 39 प्रतिशत का हिसाब दिया। इसमें अरबपति ब्लूमबर्ग और टॉम स्टेयर के चुनाव  अभियानों का खर्च शामिल है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD