[gtranslate]
world

अलजजीरा की खबर से हिली बांग्लादेश सरकार, गैरकानूनी तरीकें से मोबाइल फोन ट्रैपिंग का खुलासा

अलजजीरा की एक जांच रिपोर्ट जिसका नाम All the prime minister’s Men है में बांग्लादेश की सेना को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। जांच में बांग्लादेश के चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ जनरल अजीज अहमद पर भ्रष्ट्रचार का गंभीर आरोप लगाया गया है। जनरल अजीज अहमद अगले सप्ताह न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ट अधिकारियों से मिलने भी वाले है। अल जजीरा की इस विशेष रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि बांग्लादेश की सेना ने इजरायल से कुछ ऐसे आधुनिक मोबाइल फोन सर्विलांस इक्यूपमेंट खऱीदे हैं जिसकी मदद से अन्य सेलुलर उपकरणों के डेटा को बिना किसी की भनक लगे रिकार्ड या कैच किया जा सकता है। लेकिन यूएन के शांति समझौते में बांग्लादेश ने इस बात का उल्लंघन किया है कि वह ऐसे उपकरणों का प्रयोग नहीं करेगा, खासकर इजरायल के बने उपकरणों का तो बिल्कुल नहीं। हालांकि बांग्लादेश की सेना में कमांडर की पद पर रहने वाले एक सदस्य ने यह दावा किया है कि ये सभी उपकरण हंगरी में बनाए गए है। इसका इजरायल से कोई लेना देना नहीं है।

आपको बता दें कि यह उपकरण इंटरनेशनल मोबाइल सब्सक्राबर्स आईडेंटिटी कैचर या IMSI-CATCHER के नाम से जाना जाता है। यह एक तरह से ऐसे उपक्रम की तरह काम करता है जो सेल टावर्स को कैप्चर कर उससे जुडें सेलुलर डिवाइसेस को आसानी से कैच करता है और इसकी मदद से उन डिवाइस में उपलब्ध सभी जानकारियों के साथ लोकेशन की भी सूचना प्राप्त की जा सकती है। जांच में एक और खुलासा किया गया है। IMSI-CATCHER के बारे में बताया गया है कि इसका उपयोग बड़े स्तर पर भी किया जाता है। मसलन एक प्रदर्शन में जितने लोग उपस्थित होंगे उन सभी के मोबाइल फोन को एक साथ ट्रैक किया जा सकता है।

अलजजीरा ने खरीद के दौरान किये गए कागजी कार्यवाहियों की एक फाइल का भी जिक्र किया है जिससे स्पष्ट है कि बांग्लादेश ने जानबूझकर इस तथ्य को छुपाया कि इन उपकरणों की निर्माता कंपनी PicSix, एक इजरायली कंपनी है। PicSix को पूर्व इजरायली खुफिया एजेंटों की एक कंपनी है। हंगरी में भी इस कंपनी ने अपने दो विशेपज्ञों को प्रशिक्षित करने के लिए भेजा था कि यह पूरी तकनीक कैसे काम करती है। अल जजीरा ने एक बिचौलिए, जेंस मोलोनी की गुप्त रिकॉर्डिंग प्राप्त की। जिसमें मोलोनी को यह कहते हुए सुना गया कि सॉवरेन सिस्टम्स एशिया में PicSix के कारोबार के लिए एक मोर्चा था। उन्होंने इस बात को स्वीकार किया कि यह कंपनी इजरायल की है। उन्होंने इस तकनीक को बहुत आक्रमक बताया। आप नहीं चाहते कि जनता को पता चले कि आप उस उपकरण का उपयोग कर रहे हैं।

All the Prime Minister’s Men में इस बात का खुलासा हुआ है कि हत्या के दोषी हारिस और अनीस अहमद कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए विदेश भाग गए थे। दोनों को उनके भाई द्वारा संरक्षण दिया जा रहा है, जो सेना में एक हाई रैंक ऑफिसर हैं। उनके भाई जनरल अजीज अहमद हैं, जो बांग्लादेश सेना के प्रमुख हैं और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के करीबी विश्वासपात्र हैं। दो साल तक चली इस जांच में अल जजीरा की जांच यूनिट हारिस और अनीस अहमद को ट्रैक करने में कामयाब रही, जिन्हें 1996 में मुस्तफिजुर रहमान मुस्तफा की हत्या में शामिल होने के लिए दोषी पाया गया था।

मुस्तफिजुर रहमान मुस्तफा को विपक्षी दल का एक नेता बताया जाता है। हत्या के बाद हारिस और अनीस अधिकारियों के शिकंजे से बचने में कामयाब हुए और विदेश में जाकर छिप गए। हारिस अभी भी देश के मोस्ट वांडेट अपराधियों की सूची में शामिल है। वो बांग्लादेश छोड़ बुडापेस्ट, हंगरी भागने में कामयाब हुआ था और मोहम्मद हसन नाम की अपनी ‘नकली पहचान’ के साथ वहां रह रहा है।

दूसरा भाई अनीस अहमद कुआलालंपुर में रह रहा है, जहां 2007 में हत्या के लिए दोषी ठहराए जाने के बाद वो फरार गया था। ये जानते हुए कि दोनों ही भाई बांग्लादेश के कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा वांटेड हैं, जनरल अजीज दोनों के ही संपर्क में हैं। हारिस और अनीस मार्च 2019 में अजीज के बेटे की शादी में शामिल होने के लिए ढाका भी आए थे। शादी में दोनों भगोड़ों के साथ बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हमीद और विदेशी गणमान्य व्यक्तियों ने भी हिस्सा लिया था।

दोनों का संबंध बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना से लंबे समय से है। 1980-90 के दशक में विपक्षी और आवामी लीग की नेता होने के दौरान जब उनकी जान को खतरा था तब हारिस और अनीस हसीना के बॉडीगार्ड थे। अल जजीरा को मिली फोन रिकॉर्डिंग में जनरल अहमद ने बताया कि कैसे हसीना ने पार्टी के अहम नेता के भाइयों का बचाव किया। एक निगरानी दल ने जनरल अज़ीज़ का कुआलालंपुर तक पीछा किया, जहाँ उसे और अनीस को बांग्लादेश उच्चायोग को एक राजनयिक एस्कॉर्ट दिया गया।

You may also like

MERA DDDD DDD DD