[gtranslate]
world

तालिबान विरोधी छापेमारी में आम नागरिकों की मौत

तालिबान के दक्षिणी हेलमंद प्रांत में आतंकवादी संगठन  के ठिकानों पर अफगान विशेष बलों द्वारा की गई छापेमारी के दौरान 23 सितंबर को कम से कम 40 नागरिक मारे गए। प्रांतीय अधिकारियों द्वारा यह जानकारी सार्वजनिक की गई। डिप्टी प्रांतीय काउंसिलमैन अब्दुल माजिद अखुंद ने कहा कि प्रारंभिक रिपोर्टों से पता चलता है कि 40 नागरिक मारे गए हैं, लेकिन अंतिम रूप से उपलब्ध होने पर संख्या संभवतः बढ़ सकती है।

प्रांतीय परिषद के प्रमुख अताउल्लाह अफगान ने कहा कि मरने वालों में अधिकांश महिलाएं और बच्चे हैं जो मूसा कला जिले में एक शादी समारोह में शामिल होने आए थे। घटना में 12 लोग घायल हो गए हैं। विभिन्न स्रोतों से मारे गए और घायल लोगों की संख्या को लेकर परस्पर विरोधी रिपोर्ट आ रही हैं क्योंकि छापेमारी वाले इलाका तालिबान के नियंत्रण में है।

यह पहले की तरह है जब पूर्वी अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत में एक ड्रोन हमले में अमेरिकी सेना पर दोषारोपण किया गया था, जिसमें कम से कम 16 लोग मारे गए और 10 लोग घायल हो गए, जिनमें से अधिकांश नागरिक थे। अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना ने कहा कि उन्होंने पूर्वी नांगरहार में आतंकी संगठन तालिबान के ठिकानों को निशाना बनाकर हमला किया। इस महीने के अंत में राष्ट्रीय चुनाव होने हैं, ऐसे में भारी पैमाने पर हिंसा ने देश को और उग्र कर दिया है।

इससे पहले अफगानिस्‍तान सुरक्षा बलों ने 21 सितम्बर को तालिबान लड़ाकों के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई करते हुए 23 तालिबानी लड़ाकों को मौत के घाट उतार दिया था। सुरक्षा बलों ने यह हवाई हमला तालिबान के प्रभुत्‍व वाले इलाके में की। इसमें कंधार, गजनी और बदगीस प्रांत शामिल है।

You may also like