[gtranslate]
world

बिडेन के शपथ समारोह में ‘अमांडा जॉर्डन’ ने ‘द हिल वी क्लाइंब’ कविता का किया पाठ

युवा कवयित्री अमांडा  गोर्डन ने बुधवार,20 जनवरी को जो बिडेन और कमला हैरिस के शपथ समारोह में एक ऐसी कविता पढ़ी जिसके बाद उनकी तारीफ विश्वभर में हो रही है। लॉस एंजलेस की रहने वाली 22 वर्षीय गोर्डन ,अमेरिकी इतिहास की पहली ऐसी कवयित्री बन गयी जिन्होंने राष्ट्रपति शपथ में अपनी कविता को प्रस्तुत की।

‘द हिल वी क्लाइंब’

उनकी कविता का शीर्षक था ‘द हिल वी क्लाइंब’।  अपनी कविता में अमांडा ने दो सप्ताह पहले  कैपिटल हिल पर हुए हमले को भी एड्रेस किया।

  We’ve seen a force that would shatter our nation rather than share it,Would destroy our country if it meant delaying democracy.
And this effort very nearly succeeded.
But while democracy can be periodically delayed,
It can never be permanently defeated.
In this truth, in this faith, we trust.  For while we have our eyes on the future, history has its eyes on us.  

 

कविता में ‘एकता और साथ रहने’ पर दिया जोर

 

अमांडा ने अपनी खुद की लिखी कविता में ‘एकता और साथ रहने’ पर जोर दिया। मात्र 22 साल अमांडा की कविता ‘द हिल वी क्‍लाइंब’ को न केवल शपथ ग्रहण स्‍थल पर मौजूद लोगों ने देखा, बल्कि दुनियाभर में करोड़ों लोगों ने लाइव देखा।

 

 

अमांडा ने अपनी कविता की शुरुआत में कहा, ‘जब दिन ढलता है तो हम खुद से सवाल करते हैं कि हम कभी न खत्‍म होने वाली छाया से कहां पर प्रकाश हासिल कर सकते हैं।’

गोर्डन वर्ष 2017 में देश की पहली राष्‍ट्रीय युवा कवयित्री बनी थीं। उन्‍होंने कविता सुनाने से पहले कहा कि मैं अपने शब्‍दों के जरिए एकजुटता, सहयोग और साथ रहने की सीख देना चाहती हूं। उन्‍होंने कहा, ‘मैं समझती हूं कि यह अमेरिका के इतिहास में एक नया अध्‍याय है। राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ने भी अपने भाषण में एकजुटता बढ़ाने पर जोर दिया।

You may also like

MERA DDDD DDD DD