[gtranslate]
Uttarakhand

कहर कोरोना का : हिमालयी राज्यों में सबसे बदहाल है उत्तराखण्ड

राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के आंकड़ों को देखें तो स्थिति भयावह ही नजर आ रही है। प्रदेश के सभी 13 जनपदों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं और मौतें भी पिछले वर्ष से ज्यादा हुई हैं। इतना जरूर सुखद है कि कोरोना से ठीक होने वालों की तादात भी तेजी से बढ़ रही है। लेकिन मौतों के आंकड़े यह बताने के लिए काफी है कि प्रदेश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है। 10 मई के हेल्थ बुलेटिन के अनुसार राज्य में कोरोना के कुल मरीजों की संख्या 2 लाख 49 हजार 814 तक पहुंच चुकी है। कोरोना से स्वस्थ होने की तादात 1 लाख 66 हजार 521 हो चुकी है और कुल 74 हजार 480 कोरोना के एक्टिव केस प्रदेश में चल रहे हैं। कोरोना से मरने वालों की कुल संख्या 3 हजार 896 तक पहुंच चुकी है।

देहरादून। उत्तराखण्ड में कोरोना से हालात बद से बदतर हो चले हैं। सरकार के तमाम दावों और प्रयासों के बावजूद न तो कोरोना के मामले रूक रहे हैं और नहीं कोरोना से मरने वालो की तादात कम हो रही है। हालात यहां तक पहुंच चुके हैं कि प्रति लाख व्यक्ति पर 37 की मौत उत्तराखण्ड में हो रही है जिसके चलते उत्तराखण्ड सभी आठ हिमालयी राज्यों में पहले स्थान पर आ चुका है।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के आंकड़ों को देखें तो स्थिति भयावह ही नजर आ रही है। प्रदेश के सभी 13 जनपदों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं और मौतें भी पिछले वर्ष से ज्यादा हुई हैं। इतना जरूर सुखद है कि कोरोना से ठीक होने वालों की तादात भी तेजी से बढ़ रही है। लेकिन मौतों के आंकड़े यह बताने के लिए काफी है कि प्रदेश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है। 10 मई के हेल्थ बुलेटिन के अनुसार राज्य में कोरोना के कुल मरीजों की संख्या 2 लाख 49 हजार 814 तक पहुंच चुकी है। कोरोना से स्वस्थ होने की तादात 1 लाख 66 हजार 521 हो चुकी है और कुल 74 हजार 480 कोरोना के एक्टिव केस प्रदेश में चल रहे हैं। कोरोना से मरने वालों की कुल संख्या 3 हजार 896 तक पहुंच चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग के 10 मई का हेल्थ बुलेटिन से स्पष्ट है कि देहरादून जिला सबसे ज्यादा प्रभावित है। 10 मई तक जिले में 89 हजार 296 कोरोना के मरीजों की तादात हो चुकी है। जिसमें अभी तक 59 हजार 82 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। 27 हजार 585 कोरोना के एक्टिव मरीज अभी भी है। जिले में अभी तक कोरोना से मरने वालांे की संख 2 हजार 149 तक पहुंच चुकी है।

हरिद्वार जिला दूसरे नंबर पर है जिसमें अभी तक कोविड संक्रमित 39 हजार 539 मरीजों की संख्या हो चुकी है जिसमें स्वस्थ होने वालों की संख्या 26 हजार 205 है तो वहीं कोरोना से मरने वालों की तादात 340 तक पहुंच चुकी है। एक्टिव केस जिले में 12 हजार 13 चल रहे हैं।

नैनीताल जिले में कोरोना से मरने वालो की संख्या हरिद्वार जिले से ज्यादा है लेकिन कोरोना के मामले कम है। नैनीताल जनपद में 10 मई तक कोरोना के 29 हजार 593 मामले आ चुके हैं जिसमें 22 हजार 331 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं और कुल 6538 एक्टिव केस बने हुए हैं। कोरोना से मरने वालों की संख्या जिले में 597 तक पहुंच चुकी है।

27 हजार 909 कोरोना मरीजों की तादात के चलते ऊधमसिंह नगर जिला चैथे स्थान पर बना हुआ है। 19 हजार 934 मरीज स्वास्थ भी हो चुके हैं और 10 मई तक जिले में 6865 केस बने हुए हैं। कोरोना से मरने वालों की संख्या जिले में 264 हो चुकी है।

पर्वतीय जिलों में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं। कोरोना की पहली लहर में जहां पहाड़ी जिलों में संक्रमण की दर मैदानी जिले की अपेक्षा बहुत कम थी लेकिन दूसरी लहर में पहाड़ी जिलों को भी अपनी चपेट में बुरी तरह ले लिया है। पहाड़ी जिलों में मौतों की तादात तेजी से बढ़ रही है। प्रदेश में 10 मई तक कोराना से मरने वालों की कुल संख्या 3896 तक पहुंच चुकी है जिसमें पहाड़ी जिलों में मरने वालों की कुल संख्या 546 है। 3350 मौतें चार जिलों देहरादून, नैनीताल, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में ही हुई है।

उत्तराखण्ड की जनसंख्या महज सवा करोड़ की ही है लेकिन जिस तरह से कोरोना के चलते 3 हजार से भी ज्यादा मौतें हो चुकी हैं यह अपने आप में बताने के लिए काफी है कि प्रदेश में कोरोना का कहर किस तदर फैल चुका है। राज्य में हो रही मौतों के बारे में ‘कम्युनिटी फाॅर सोशल डेवलेपमेंट’ द्वारा हिमालयी राज्यों में कोरोना से हुई मौतों का आकलन करके आंकड़े जारी किए हैं। जिसके अनुसार हिमालयी राज्यो में उत्तराखण्ड सबसे पहले स्थान पर आ चुका है।

‘कम्युनिटी फाॅर सोशल डेवलेपमेंटं के आकलन के अनुसार प्रति लाख पर उत्तराखण्ड को आंकड़ा 37 मौतो का है, जबकि हिमाचल और सिक्किम में 28 और मणीपुर में 18, त्रिपुरा में 11 मेघालय में 8, नागालैण्ड में 7 और अरूणाचल में 4 तथा मिजोरम में मात्र 2 है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD