Uttarakhand

श्रमिकों के लिए देवदूत बने स्थानीय युवा

गोपाल बोरा

श्रमिकों के लिए देवदूत बने स्थानीय युवा।
राशन इत्यादि बांट रहे हैं ये इंसानियत के मसीहा।।

जहां एक ओर, गोला नदी में फंसे श्रमिकों को निकालने और उन्हें सहायता पहुंचाने में शासन प्रशासन ने हाथ खड़े कर दिए, और ना ही कोई राजनीतिक दल का व्यक्ति, इनके हाल-चाल जानने आया । क्योंकि यह श्रमिक उनके वोटबैंक भी नहीं हैं । इस संबंध में लालकुआं के इमानदार पत्रकारों की लंबी चौड़ी फेहरिस्त भी जुड़ी है ,जो अभी तक इन मजदूरों का हाल-चाल लेने नहीं पहुंची । कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि सोशल मीडिया पर सभी बड़ी-बड़ी बातें फेंकते हैं, लेकिन जमीन में सहायता करने कोई नहीं आता , ऐसे में स्थानीय युवक चामू राणा के नेतृत्व में रावत नगर के युवाओं ने रावत नगर की क्षेत्रीय जनता के सहयोग से इन मजदूरों के लिए आज कुछ भोजन की राहत सामग्री एकत्र कर वितरित करवाई । जो बहुत ही सराहनीय कार्य है , मैं चामू राणा और उनकी टीम सहित रावत नगर की क्षेत्रीय जनता को हार्दिक बधाई और साधुवाद देना चाहता हूं । लेकिन सवाल अब भी वही है , ऐसे में जब दिनोंदिन स्थिति खराब होती जा रही है, लोग भी अपनी जेब से कब तक सहायता करेंगे। मैं पुनः शासन प्रशासन का ध्यान इस ओर दिलाना चाहता हूं स्थिति खतरनाक हो सकती है। इसलिए इन मजदूरों की तत्काल सहायता की जाए।

You may also like