[gtranslate]
Uttarakhand

त्रिवेन्द्र सरकार की आखिर क्यों उड़ाई जा रही खिल्ली… 

 त्रिवेन्द्र सरकार यानी प्रदेश सरकार, क्योंकि जब से वन मैन शो का प्रचलन चलने लगा तो जनता जनार्दन पीछे और सिर्फ मुखिया आगे आने लगे, इसकी शुरुआत मोदी सरकार से हुई है। केन्द्र में मोदी सरकार तो प्रदेश में त्रिवेन्द्र सरकार, प्रदेश सरकार द्वारा छठ पूजा की छुट्टी करने को लेकर त्रिवेन्द्र सरकार की शोसल मीडिया में जमकर खिल्ली उड़ाई जा रही है। सरकार को मजाक का पात्र बनने स्थिति इसलिए आई है क्योंकि त्रिवेन्द्र रावत द्वारा पिछले दिनों उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध लोकपर्व घी सक्रांति को लेकर राजकीय छुट्टी घोषित नही की गई थी। जाहिर सी बात है कि अगर प्रदेश सरकार पहाड़ी जिलों में धूमधाम से मनाए जाने वाले लोकपर्वो को लेकर संजीदा नही है तो वह सरकार कैसे पर्वतीय संस्कृति को बचाने का काम करेगी। साफ तौर पर यह कहा जा सकता है प्रदेश की त्रिवेन्द्र सरकार अब सिर्फ मैदानी इलाको के पूर्वांचल वोट बैंक की राजनीति पर उतर आई है। अब इनको पर्वतीय मूल की जनता से कोई सरोकार नही रहा, सरकार सिर्फ विज्ञापनों के माध्यम से ही लोकपर्व और लोक संस्कृति को बचाने का काम किया जा रहा है न कि धरातल पर उतर कर, प्रदेश की पर्वतीय मूल जनता के बीच रोष पैदा होना स्वभाविक है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD