[gtranslate]
Uttarakhand

ये कैसा प्याज जिसके दाम सुनते ही निकले आंसू…

कुमाऊं की आर्थिक राजधानी के नाम से जाने जानी वाली हल्द्वानी की सब्जी मंडी में इन दिंनो प्याज का दाम सुनते ही होश उड़ रहे है। दरअसल प्याज़ की कीमतों में उछाल के बाद मंडी सूनी हो गयी है। आढ़ती बताते है की मंडी भाव ही इतना उछल गया है की थोक में खरीदने की भी गुंजाइश नही बची, आजकल प्याज़ थोक रेट में 46 से 47 रुपये प्रति किलो आ गया है, लिहाज़ा दुकानदार भी करे तो क्या करें। राजस्थान और महाराष्ट्र में आई बाढ़ से प्याज की फसल बर्बाद होने का यह नतीजा है। लिहाजा जब तक प्याज की नई फसल नहीं आ जाती तब तक प्याज के दाम गिरने की कोई उम्मीद नहीं है, प्याज के दाम बढ़ने से जमाखोरी भी शुरू हो गयी है, लिहाजा प्रशासन को प्याज के जमाखोरों पर नजर रखते हुए कार्यवाही करनी चाहिए क्योंकि इस बीच में प्याज के बिचौलिए सक्रिय हो चुके हैं। हल्द्वानी मंडी सचिव विश्व विजय सिंह के मुताबिक पिछले साल सितंबर में प्रतिदिन ढाई सौ कुंतल प्याज हल्द्वानी मंडी पहुंचता था, लेकिन इस साल यह गिरकर 70 से 80 कुंतल पर आ गया है, प्याज का रेट पिछले साल इन्ही दिनों में 1200 से 1600 प्रति कुंतल था, वह इस साल 4500 से 5000 प्रति कुंतल के आसपास है लिहाजा जब तक नई प्याज की फसल मंडी में नहीं आ जाती तब तक प्याज यूं ही आम आदमी के आंसू निकालता रहेगा । फिलहाल अभी प्याज की नई फसल को तैयार होने में करीब एक महीने का वक्त बाकी है, तब तक आम आदमी को महंगे प्याज से ही काम चलाना पड़ेगा, प्याज की आसमान छूती कीमतों से आम आदमी को राहत मिलने वाली नहीं है क्योंकि बाजार में प्याज की सप्लाई आधे से भी ज्यादा गिर चुकी है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD